सांसदी पाने के लिए दलबदल का ‘भागीरथ’ प्रयास | ‘Bhagirath’ attempts to get MPs

0
104
Dr bhagirath prasad

चंबल अंचल का भिंड लोकसभा क्षेत्र कभी दस्युओं की हलचल के लिए ख्यात था तो इसकी राजनीतिक ख्याति बढ़ाई भारतीय प्रशासनिक सेवा के रास्ते राजनीति में आए डॉ. भागीरथ प्रसाद ने। उन्होंने 2009 का चुनाव कांग्रेस के टिकट पर लड़ा और हार गए। तब उन्हें राजनीति में आने की इतनी जल्दी थी कि देवी अहिल्या विश्वविद्यालय के कुलपति का पद भी ताबड़तोड़ छोड़कर चुनाव लड़ने आ पहुंचे। उनका चुनाव प्रचार अभियान हिंसक रहा और कांग्रेस के एक विधायक माखन जाटव की हत्या कर दी गई। उसका आरोप लगा कालांतर में भाजपा सरकार में मंत्री बने लालसिंह आर्य पर।

must read: मुरली मनोहर जोशी नहीं लड़ेंगे चुनाव, वोटरों को लिखा खत | Murli Manohar Joshi will not fight elections

बहरहाल वे कांग्रेस के सांसद बतौर लोकसभा में नहीं पहुंच पाए। 2014 में कांग्रेस ने उन्हें फिर टिकट दिया। इस बार डॉ. भागीरथ प्रसाद ने कीर्तिमान रच दिया। कांग्रेस की ओर से प्रत्याशी घोषित किए जाने के बाद वे भारतीय जनता पार्टी में चले गए। भाजपा ने भी उन्हें भिंड से ही टिकट दिया। उस चुनाव में उन्होंने कांग्रेस प्रत्याशी इमरती देवी को हराया। हालांकि भाजपा ने भी उन्हें टिकट के बाद कुछ नहीं दिया।

must read: समाजवादी पार्टी का दामन छोड़ भाजपा की हुई जयाप्रदा | Film actress Jaya Prada joins BJP

कद्दावर प्रशासनिक अधिकारी और शिक्षा जगत से जुड़े रहने के बाद भी वे सांसद ही बने रहे। भिंड में भी हालात कुछ ऐसे बने कि वे किसी और क्षेत्र की तलाश मे जुटे रहे। वैसे बतौर प्रशासनिक अधिकारी डॉय भागीरथ प्रसाद ने इंदौर जैसे बड़े जिले की कलेक्टरी भी की। 1989 में वहां हुए सांप्रदायिक दंगों के बाद उन्हें वह पद गंवाना पड़ा था। उस दंगे में एक ही दिन मे 22 लोगों की जान गई थी। इंदौर में ही कॉलोनाइजरों के खिलाफ सख्ती के लिए भी उन्हें याद किया जाता रहा। बाद में वे प्रदेश के प्रमुख सचिव परिवहन और अजा-जजा कल्याण भी रहे। साहित्यकार पद्मश्री मेहरुन्निसा परवेज से विवाहित डॉ. प्रसाद से अंततः भाजपा ने भी पीछा छुड़ा ही लिया। भिंड लोकसभा क्षेत्र से संध्या राय को उम्मीदवार घोषित कर उन्हें बाय-बाय कह दिया गया।

must read: राहुल गांधी की बड़ी घोषणा, गरीबों को देंगे 72 हजार रूपये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here