बजट से पहले पीएम मोदी ने की अर्थशास्त्रियों से मुलाकात, पांच मुद्दों पर की गई चर्चा

0
12

केन्द्र में दोबारा सरकार बनाने के बाद मोदी सरकार अपना पहला बजट पेश करने जा रही है। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अर्थशास्त्रियों से महत्वपूर्ण बैठक की है। नीति आयोग की ओर से बुलाई गई बैठक में पांच अहम मुद्दों पर चर्चा की गई। इस बैठक में 40 अर्थशास्त्रियों और अन्य एक्सपर्ट ने भाग लिया।

वहीं एनडीए सरकार के शुरूआत में अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में खराब अर्थव्यवस्था की रिपार्ट को लेकर इस बैठक को महत्वपूर्ण माना जा रहा है। गौरतलब है कि जनवरी-मार्च के दौरान देश की विकास दर 5.8 तक पंहुच पाई थी। इस बैठक में वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने भी भाग लिया था।

बता दे कि ‘इकोनॉमिक पॉलिसी-द रोड अहेड’ की थीम पर आयोजित हुई बैठक में रोजगार और मैक्रो- इकोनॉमी, खेती व जल संसाधन, निर्यात, शिक्षा व स्वास्थ्य जैसे मुद्दों पर चर्चा की गई। पीएम ने सभी लोगों को अर्थव्यवस्था से जुड़े जाटिल मामलों पर सुझाव देने के लिए धन्यवाद भी दिया है। उन्होने कहा कि उनकी सरकार द्वारा सभी मुद्दों पर दिए गए सुझावों को अमल में लाने का प्रयास किया गया है।

इस बैठक के दौरान कई मुद्दों पर प्रेजेंटेशन भी दिया गया जिसमें उनमें इंफ्रास्ट्रक्चर, खेती और बेरोजगारी जैसे मुद्दें शामिल हैं। इसमें सरकार को इन पर आगे का रोडमैप तैयार करने को लेकर सुझाव भी दिए गए है।
गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव के बाद केन्द्र सरकार द्वारा जारी एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले पांच माह में पहली बार विकार दर में गिरावट आई थी। जो कि पिछले वित्त वर्ष की तीन तिमाही की तुलना में काफी कम है। साथ ही बेरोजगारी भी 45 साल की तुलना में सबसे उंचे स्तर पर पंहुच गई है।

चौथी तिमाही में यह थी विकास दर-
जनवरी-मार्च के बीच देश 5.8 फिसदी विकास दर के साथ आगे बढ़ रहा था। वहीं इससे पूर्व तीन तिमाही में विकास दर 8.2 फीसदी, 7.1 फीसदी और 6.6 फीसदी के आंकड़ें तक पंहुच गई थी। चार तिमाही में विकास दर औसतन 5.7 फीसदी रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here