Breaking News

अनूठे अंदाज में बर्थ डे विश करते हैं राजेंद्र वर्मा…

Posted on: 15 May 2018 15:25 by Praveen Rathore
अनूठे अंदाज में बर्थ डे विश करते हैं राजेंद्र वर्मा…

इंदौर। आज की भागमभाग जिंदगी में जब घर परिवार वाले ही अपने परिजन का जन्म दिन भूल जाते हैं वहीं शहर में एक शख्स ऐसा है, जो अपने दोस्तों, रिश्तेदारो और परिचितों को अलग-अलग अंदाज में बर्थ डे विश कर खुशियां बांटता है। हम बात कर रहे हैं इंदौर के प्रिंटिंग प्रेस व्यवसायी राजेंद्र वर्मा की। वे अपने दोस्तों के जन्मदिन पर कभी उनके घर अलसुबह ढोलक वाले को भेजकर ढोलक बजवाकर माहौल बनाते हैं तो कभी दस या पचास रुपए के नोट पर जिसका जन्मदिन होता है, उस तारीख का नोट मुंबई से मंगवा कर  उसे आकर्षक ग्रीटिंग कार्ड बनाकर दोस्त को भेजते हैं। वे अपने अंदाज में बर्थ डे की शुभकामनाएं देते हैं। इससे उन्हें तो खुशी मिलती ही है, जिसको बर्थ डे विश कर रहे हैं वह भी खुश हो जाता है।

rajen23

राजेंद्र भैया कहते हैं कि इस तरह से यदि कुछ पल खुशी के बटोरे जा सकते हैं, तो इसमें हर्ज ही क्या है? थोड़ी मेहनत से कुछ पल की खुशियां तो मिल ही जाती है। आज की भागमभाग जिंदगी में लोग हंसना ही भूल जाते हैं, ऐसे में बर्थ डे पर विश करने से खुशी के इन पलों की मीठी यादों के रूप में सहेजा जा सकता है।

rajen 1

दोस्तों के घर भेजते हैं ढोलक
वर्मा बताते हैं कि आसपास के दोस्तों के घर उनके जन्म दिन पर ढोल भेजते हैं और बजवाते हैं। कई बार तो दोस्त-रिश्तेदार कुछ समझ नहीं पाते हैं, कि उनके घर ढोलक क्यों बज रहा है। इस बीच जब उनको फोन कर हैप्पी बर्थ डे बोलेते हैं…तो खुशी का ठिकाना नहीं रहता है। वहीं कई बार ऐसा भी होता है कि ढोलक की आवाज के साथ जब दोस्त जागते हैं और परिवार वाले भी, जिन्हें जन्मदिन याद नहीं रहता है, उन्हें जन्म दिन की याद आ जाती है।

rajen note

बर्थ डे की डेट के नोट मुंबई से मंगवाए
वर्माजी को अलग-अलग तरीके से बर्थ डे विश करने का शौक है। उन्होंने कई दोस्तों और परिचितों को बर्थ डे की तारीख के दस रुपए के नोट मुंबई से मंगवाकर उसे ग्रिटिंग का रूप देकर भेंट किए। कई लोगों ने इस ग्रीटिंग को फ्रेम करवा कर रखा हुआ है, जो उन्हें अपने जन्म दिन के अमूल्य तोहफे के रूप में याद आता है।

पूर्व छात्रों का किया सम्मेलन
राजेंद्र भैया को सामाजिक कार्य करने और दोस्तों के साथ समय बीताने का भी शौक है। आठ साल पहले उन्होंने दोस्तों के साथ बैठे-बैठे ही अपने पुराने दोस्तों को इकट्ठा करने की योजना बनाई। जब वे इंदौर क्रिश्चियन कॉलेज में पढ़ते थे, उन दिनों के साथी और दोस्त आज राजनीति में अपना मुकाम बना चुका है, तो कुछ राजनीति, पत्रकारिता, न्यायिक और प्रशासनिक क्षेत्र में तो कुछ बिजनेस में परचम लहरा रहे हैं।उन पुराने दोस्तों की फेहरिस्त लंबी है सभी दोस्तों को कॉल किया और इंदौर क्रिश्चियन कॉलेज के भूपू छात्रों का 6 मार्च 2011 को कॉलेज परिसर में ही प्रथम सम्मेलन किया, जो आज भी दोस्तों को याद है। अब वे दोस्तों के साथ मिलकर एक संस्था गठित करने की योजना बना रहे हैं, जो समाजसेवा के साथ ही पर्यावरण के लिए भी काम करेगी।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com