Breaking News

जमात-ए-इस्लामी पर प्रतिबंध के बाद सील की करोड़ों की संपत्ति

Posted on: 02 Mar 2019 13:04 by Pawan Yadav
जमात-ए-इस्लामी पर प्रतिबंध के बाद सील की करोड़ों की संपत्ति

पुलवामा हमले के बाद जम्मू-कश्मीर में सक्रिय अलगाववादी संगठन जमात-ए-इस्लामी पर सरकार ने बड़ी कार्रवाई की है। सरकार ने देश विरोधी गतिविधि में शामिल होने के आरोप में संगठन पर प्रतिबंध लगा दिया है। जम्मू-कश्मीर पुलिस और सेना ने कार्रवाई करते हुए संगठन के 70 से अधिक ठिकाने सील कर दिए गए हैं। बताया जा रहा है कि 60 से अधिक खाते भी सील कर दिए गए हैं। जांच के दौरान जमात-ए-इस्लामी की करोड़ों रूपए की संपत्ति सामने आने पर सील कर दी गई है।

जमात-ए-इस्लामी के 6 सदस्यों को दबोचा

पुलवामा हमले के बाद सेना और जम्मू कश्मीर पुलिस द्वारा लगातार सर्चिंग अभियान चलाया जा रहा है। इस दौरान सेना अब तक कई आतंकियांें को मार चुकी है। इसी बीच शुक्रवार को सेना को बड़ी सफलता हाथ लगी है। सेना ने दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले के त्राल में छापमारी कर जामात-ए-इस्लामी के 6 सदस्यों को गिरफ्तार किया है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक छापमार कार्रवाई के दौरान सेना कुछ ओर लोगों को गिरफ्तार कर सकती है। एनआईए के मुताबिक जामात-ए-इस्लामी संगठन के गिरफ्तार सदस्यों के तार आतंकी संगठनों से जुड़े हुए हैं। इस संगठन पर कश्मीर में हिंसा भड़काने जैसे आरोप लगे हैं। इससे पहले जामात-ए-इस्लामी संगठन के 15 सदस्यों को गिरफ्तार किया था।

अलगाववादी संगठन पर लगा चुके हैं प्रतिबंध

इससे पहले भारत सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए जम्मू-कश्मीर में अप्रत्यक्ष रूप से राष्ट्र विरोधी गतिविधि में शामिल अलगाववादी संगठन जमात-ए-इस्लामी जम्मू-कश्मीर पर प्रतिबंध लगा दिया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में सुरक्षा को लेकर हुई बैठक में ये सख्त कदम उठाया गया। अलगाववादी संगठन पर प्रतिबंध का आदेश गृह मंत्रालय की ओर से जारी किया गया है। गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर के अलगाववादी संगठन जमात-ए-इस्लामी पर में देश में राष्ट्र विरोधी गतिविधि शामिल होना और आतंकी संगठनों से मिलीभगत होने के आरोप है। इससे पहले 14 फरवरी को पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद सरकार ने अलगाववादियों पर तेजी से शिकंजा कसना शुरू कर दिया था और जमात-ए-इस्लामी के कई नेता और उनके करीब 150 समर्थकों को सलाखों के पीछे डाल दिया था।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com