Breaking News

4 साल में 77 हजार करोड़ के बैंक लोन फ्रॉड, तीन गुना इजाफा

Posted on: 29 May 2018 09:17 by krishna chandrawat
4 साल में 77 हजार करोड़ के बैंक लोन फ्रॉड, तीन गुना इजाफा

दिल्ली : मोदी सरकार के आने के बाद बैंक लोन धोखाधड़ी के मामलों में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है। एक आरटीआई रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि अप्रैल 2014 से मार्च 2018 की अवधि में 77 हजार करोड़ रुपए की धोखाधड़ी बैंक लोन के मामलों में हुई है।

यह आंकड़ा कांग्रेस शासन काल में 22,441 करोड़ रुपए था। यानि कांग्रेस शासन के बाद मोदी के कार्यकाल में बैंक लोन धोखाधड़ी के मामलों में तीन गुना से ज्यादा बढ़ोतरी हुई है।Narendra-Modi scame

अर्थशास्त्री प्रसन्नजीत बोस ने सूचना के अधिकार [आरटीआई] के तहत रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया में आवेदन लगाकर इस संबंध में जानकारी मांगी थी। इस याचिका पर आरबीआई ने चौंकाने वाला जवाब दिया है। रिज़र्व बैंक ने स्वीकार किया है कि अप्रैल 2014 से मार्च 2018 तक 77000 करोड़ से अधिक के लोन फ्रॉड हुए हैं।rbiबोस ने इस याचिका को लगाने से पहले जब पिछले दस वर्षो का बैंकिंग लेखा जोखा जाना तो उन्होंने पाया की 2008-2009 में बैंक धोखाधड़ी की राशि 1,542.8 करोड़ से बढक़र 2017-2018 में 22,469.6 करोड़ रुपए हो गई थी।

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार भाजपा के चार साल के शासन काल में 9193 लोन के केस सामने आए हैं, और यहा फ्रॉड तकऱीबन 77000 करोड़ से भी ऊपर है।

आपको बता दें कि कांग्रेस सरकार में यहा आंकड़ा अप्रैल 2009 से मार्च 2014 तक 22,441 करोड़ था, और 10,652 केस सामने आये थे ।

बोस ने इन आंकड़ों पर चिंता व्यक्त कर सवाल उठाया है कि जांच एजेंसियां कहां हैं? अभी तक कितने धोखेबाज़ों को गिरफ्तार कर लिया गया है और उनके खिलाफ मुकदमा चलाया गया है? बोस ने कहा कि बैंकों से हुई इस भारी लूट का जिम्मेदार केंद्रीय वित्त मंत्रालय को ठहराया जाना चाहिए और सार्वजनिक क्षेत्र की बैंकिंग प्रणाली को और सख्त बनाना चाहिए।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com