बैंक कर्जदार उद्योगपति विजय कलंत्री डिफाल्टर घोषित

0
21

भारतीय बैकों को चूना लगाने वालों की सूची लंबी होती जा रही है। बैंकों के साथ धोखाधड़ी करने वाली राशि में 73 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है। केंद्रीय बैंक के मुताबिक 2018-19 में 71,500 करोड़ रुपए का फ्राॅड किया गया है। इसी बीच बैंक ऑफ बड़ौदा ने ऐसे ही एक धोखेबाज का नाम उजागर किया है, जो जानबूझकर बैंक का कर्ज नहीं चुका रहा है।

दरअसल, बैंक आॅफ बड़ौदा ने मुंबई के दिग्गज उद्योगपति विजय गोवर्धनदास कलंत्री और उनके बेटे विशाल कलंत्री को जानबूझकर कर्ज नहीं चुकाने पर विलफुट डिफाल्टर घोषित कर दिया है। विजय कलंत्री महाराष्ट्र के पहले निजी बंदरगाह दिघी के चेयरमैन और एमडी हैं, जबकि बेटा विशाल कंपनी में निदेशक है। दोनों पर 16 बैंकों का करीब 3334 करोड़ रुपए बकाया है। बताया जा रहा है कि विजय कलंत्री राजनीति पैठ का फायदा उठाना चाहते हैं।

बार-बार नोटिस देने के बाद भी कलंत्री ने कर्ज नहीं चुकाया, तो बैंक ने मुंबई के एक समाचार पत्र में डिफाॅल्टर होने की सूचना प्रकाशित करवा दी। सूचना में बताया गया कि आरबीआई के नियम, कानून तहत विलफुल डिफाल्टर घोषित किया है। ये नाम हैं, दिघी पोर्ट लिमिटेड (कर्जदार), विशाल विजय कलंत्री, डायरेक्टर और गारंटर और विजय गोवर्धनदास कलंत्री, डायरेक्टर और गारंटर। बैंक ने कर्जदार – गारंटर को विलफुल डिफाल्टर घोषित किए जाने की जानकारी दे दी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here