बाबा महाकाल ने श्रीहरि को सौंपा सृष्टि का भार, पंहुचे गोपाल मंदिर

0
65

उज्जैन : साल में एक बार ही यह अवसर आता है, जब राजाधिराज भगवान महाकालेश्वर की पालकी आधी रात को उज्जैन की सड़कों पर निकाली जाती है। चार माह तक सृष्टि का भार उठाने के बाद अब राजाधिराज भगवान महाकाल दोबारा यह भार श्री हरि को लौटाने उनके दरबार पहुंचे।

रविवार रात 11 बजे कड़ी पुलिस सुरक्षा के बिच बाबा महाकाल मंदिर प्रांगण से रजत पालकी मे सवार होकर गोपाल मंदिर के लिये निकले।सुरक्षा के मद्देनजर पुलिस ने एक घंटे पहले ही रास्तो को खाली करा लिया था। किसी को भी सड़क पर नहीं खड़ा रहने दिया। बाबा महाकाल की सवारी पहले हाथी पर निकलना तय हुई थी।

बाद मे पालकी मे ही राजा धीराज की सवारी निकाली गई और गोपाल मंदिर पहुंचने पर परंपरा अनुसार गोपाल मंदिर को महाकाल की और से बिल्वपत्र की माला अर्पित की गई। इसके साथ ही गोपाल मंदिर की और से महाकाल को तुलसी की माला भेट की गई। दोनों देवताओं के बिच एक घंटे चर्चा के बाद बाबा महाकाल की सवारी देर रात 1ः30 बजे महाकाल मंदिर पहुंची।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here