Breaking News

बी आर चोपड़ा ने हिंदी फिल्मों का एक नया इतिहास लिख दिया | B. R. Chopra wrote a New History for ‘Hindi Films’

Posted on: 22 Apr 2019 13:16 by rubi panchal
बी आर चोपड़ा ने हिंदी फिल्मों का एक नया इतिहास लिख दिया | B. R. Chopra wrote a New History for ‘Hindi Films’

वो उच्च शिक्षा प्राप्त (डबल एम.ए )व्यक्ति थे , लाहौर मे फिल्म पत्रकार थे| उनके मन मे आया कि वो अभी फिल्मों की समीक्षा / सम्पादन करते हैं , क्यों न वो स्वयं फिल्म बनाएँ |  बंटवारे से पहले ही 1946 मे बम्बई आ गये | आरम्भ मे उन्होने अन्य निर्माताओ के लिये फिल्में बनाई |

उनके द्वारा निर्देशित पहली फिल्म

अफ़साना जुबली हिट साबित हुई | 1956 मे पापा ने खुद की कम्पनी बनाई बी आर फिल्म्स | इस बेनर तले उम्हौने 36 फिल्में बनायी जिसमें से 24फिल्में सुपर हिट रहीं | उनकी फिल्मों में सामाजिक संदेश आवश्यक रूप से होता था , नयादौर ,वक्त साधना गुमराह ,धूल का फूल ,एक ही रास्ता ,इंसाफ का तराजू , आज की आवाज़ द बर्निग ट्रेन , जमीर ,अफ़साना ,दास्तान | बिना गानों की फिल्म बनाने का प्रयोग उन्होने कानून बना के किया जो सफल रहा , आज मैं जो भी हूँ , मुझमें उनके विश्वास के कारण हूँ | मेरी कहानी तोहफ़ा उन्हे भा गयीं और मुझ अनाड़ी को कथा पटकथा संवाद लिखने की पूरी जिम्मेदारी दी | विविध भारती में काम करते हूए मैने ये फिल्म लिखी , जो देश भर में 75 हफ्ते चली | निकाह , जो ट्रिपल तलाक के मुद्दे के कारण आज भी प्रासंगिक है इसी फिल्म में मुझे बेस्ट डाइलोग का फिल्म्फेयर सम्मान मिला था |  पापा ने बाद में मुझसे बागबां , और बाबुल फिल्में भी लिखवाई , जिन्हे उनके पुत्र रवि चोपड़ा ने डाइरेक्ट किया |

इसमे कोई संदेह नहीँ , अगर मेरे बाबूजी ने मुझे जन्म दिया, लिखने का जन्मजात आशीर्वाद दिया , तो पापा ने ये पहचान और कॅरिअर दिया | पापा आप एक महान फिल्मकार ही नहीँ महान इंसान भी थे | आपको बारम्बार चरणवंदन |

Read more : आप भी रखते है ऐसे पासवर्ड तो खतरे में है आपके सीक्रेट्स | Keeping such Passwords will make your secrets in Danger

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com