भारतीय इतिहास के सबसे बड़े दानी बने अजीम प्रेमजी|Azim Premji earmarks 34 pc of his Wipro shares for philanthropy

0
18
Azim-Premji

आईटी क्षेत्र के दिग्गज और विप्रो के अध्यक्ष अजीम प्रेमजी भारतीय इतिहास के सबसे बड़े दानी बने है। इन्होंने 34 फीसदी शेयर परोपकार कार्य के लिए दान किए हैं। इनका बाजार मूल्य 52,750 करोड़ रुपये है।

अजीम प्रेमजी फाउंडेशन ने कहा कि अजीम प्रेमजी ने अपनी सारी निजी संपत्तियों का ​त्याग कर दिया है। सारी संपत्तियों को धर्मार्थ के लिए दान कर परोपकार के प्रति अपनी प्रतिबद्धता बढ़ाई है। इसकी वजह से अजीम प्रेमजी फाउंडेशन के परोपकार कार्यों को सहयोग मिलेगा। इस पहल से परोपकारी कार्य के लिए प्रेमजी द्वारा दान की गई कुल रकम 145,000 करोड़ रुपये (21 अरब डॉलर) हो गई है। जो कि विप्रो कंपनी के आर्थित स्वामित्व का 67 फीसदी है।

इससे अजीम फाउंडेशन दुनिया की बड़ी फाउंडेशन की सूची में शुमार हो गई है। 73 वर्षीय प्रेमजी ऐसे पहले भारतीय हैं जिन्होंने ‘द गिविंग प्लेज इनीशिएटिव’ पर हस्ताक्षर किए हैं। इस पहल की शुरुआत बिल गेट्स और वॉरेन बफेट ने की थी। जिसके तहत अपनी 50 फीसदी संपत्ति परोपकारी कार्य के लिए देने का वादा किया जाता है।

उनका यह फाउंडेशन राजस्थान, पुडुचेरी, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, उत्तराखंड, मध्यप्रदेश, तेलंगाना और उत्तर पूर्वी राज्यों में है। पांच साल में वंचित तबकों के लिए काम कर रहे करीब 150 एनजीओ को अजीम प्रेमजी फाउंडेशन से फंड मिला है।

अजीम प्रेमजी को सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘शेवेलियर डी ला लीजन डी ऑनर’ भी मिल चुका है। उन्हें ये सम्मान समाजसेवा करने, फ्रांस में आर्थिक दखल और आईटी उद्योग विकसित करने को लेकर दिया गया। उनसे पहले ये सम्मान पाने वाले भारतीय बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी और बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान हैं।

Read More:- गार्डन में पबजी खेलना पड़ा भारी, 10 छात्र अरेस्ट PUBG had to play heavy in the Garden, 10 student arrest

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here