Breaking News

अयोध्या विवाद : Mayawati ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत | Ayodhya dispute Mayawati welcomes Supreme Court verdict

Posted on: 08 Mar 2019 17:15 by mangleshwar singh
अयोध्या विवाद : Mayawati ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का किया स्वागत | Ayodhya dispute Mayawati welcomes Supreme Court verdict

अयोध्या में राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद भूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को बड़ा फैसला सुनाते हुए मध्‍यस्‍थता के आदेश दे दिए हैं। सुप्रीम कोर्ट ने इसके लिए पैनल गठित करने के आदेश दिए हैं। इस मामले में बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया है।

Must Read :-  Neerav Modi का 100 करोड़ का बंगला 5 सेकंड में ध्वस्त 

फैसला आने के बाद मायावती ने ट्वीट करके कहा कि अयोध्या मामले का सभी पक्षों को स्वीकार्य तौर पर निपटारे के लिये माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा फैज़ाबाद में बंद कमरे में बैठकर मध्यस्थता कराने का जो आदेश आज पारित किया है वह नेक नीयत है। बहुजन समाज पार्टी उसका स्वागत करती है।

मध्‍यस्‍थता बोर्ड के अध्‍यक्ष कलिफुल्‍लाह होंगे जिसमें तीन सदस्‍यों को शामिल किया गया है। मध्‍यस्‍थता बोर्ड के सदस्‍यों में श्री श्री रविशंकर के साथ ही श्रीराम पंचू को भी शामिल किया गया है। अगले हफ्ते मध्यस्थता की बैठक फैजाबाद में होगी। जिसके बाद आठ हफ़्तों में सुलह की रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंपी जाएगी।

हालही में बुधवार को सुप्रीम कोर्ट की 5 सदस्यीय बेंच ने सभी पक्षों की दलील सुनने के बाद मध्यस्थता के लिए नाम सुझाने को कहा था। सुनवाई के दौरान जस्टिस बोबडे ने कहा था कि इस मामले में मध्यस्थता के लिए एक पैनल का गठन होना चाहिए।

AIMIM प्रमुख ने असदुद्दीन ओवैसी ने खड़े किये सवाल

AIMIM प्रमुख और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित तीन सदस्यीय पैनल में आध्यात्मिक गुरु श्री श्री रविशंकर को शामिल किए जाने पर आपत्ति जताई है। उन्होंने कहा कि श्री श्री रविशंकर को सुप्रीम कोर्ट ने मध्यस्थ बनाया है लेकिन उनका पहले का एक बयान सबके सामने है, जिसमें वह कहते हैं कि अगर मुसलमान अयोध्या पर अपना दावा नहीं छोड़ते हैं तो भारत सीरिया बन जाएगा।

लोकसभा चुनाव से पहले मायावती को तगड़ा झटका

बीएसपी सुप्रीमो मायावती को लोकसभा चुनाव से पहले सुप्रीम कोर्ट के फैसले से तगड़ा झटका लगता दिख रहा है। दरअसल पिछले महीने पहले सुप्रीम कोर्ट ने यूपी में मायावती द्वारा लगाई गई हाथियों की प्रतिमाओं को लेकर एक अहम बात कही है।

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि उनके मुख्यमंत्री रहने के दौरान बनाई गई मूर्तियों में खर्च हुआ जनता का पैसा उन्हें वापस लौटाना होगा। कोर्ट ने कहा है कि पहले ऐसा लग रहा है कि मायावती को हाथियों की मूर्ति पर खर्च पैसा लौटाना होगा। हालांकि ये मामले की आखिरी सुनवाई नहीं है इस मामले में अगली सुनवाई 2 अप्रैल को होगी।

बता दें कि 2009 में SC ने रविकांत और अन्य लोगों के द्वारा दायर याचिका पर सीजेआई रंजन गोगोई ने सुनवाई के दौरान सीजेआई रंजन गोगोई नेसुनवाई के दौरान मायावती के वकील को निर्देश दिया और कहा कि अपने क्लाइंट को कह दीजिए कि वे मूर्तियों पर खर्च हुए पैसों को सरकारी खजाने में जमा कराएं।

Read More:PNB घोटाला: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज, नीरव ने कर्मचारियों को लिखा खत

 

 

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com