सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला, अयोध्या में मंदिर वहीं बनेगा

0
98
Suprime Court

नई दिल्ली। दशकों से लंबति पड़े श्रीराम जन्मभूमि विवाद मामले के लिए 9 नवंबर का ऐतिहासिक दिन है। सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की पैनल ने राम जन्मभूमि के पक्ष में फैसला सुना दिया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है कि मुस्लिम पक्ष को दूसरी जगह 5 एकड़ जमीन देने का आदेश दिया गया है, वहीं सरकार को ट्रस्ट बनाकर मंदिर बनाने का आदेश गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने ये फैसला इलाहबाद हाईकोर्ट द्वारा 2010 में दिए गए फैसले के खिलाफ दायर की गई याचिकाओं पर सुनाया है।

LIVE:

अयोध्या केस: चीफ जस्टिस रंजन गोगोई बोले-

  • अयोध्या में राम मंदिर वहीं बनेगा

-अयोध्या मामला: सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला-

रामजन्मभूमि न्यास को विवादित जमीन दी गई।

-मुस्लिम पक्ष को दूसरी जगह 5 एकड़ जमीन देने का आदेश

-ट्रस्ट बनाकर मंदिर बनाने का आदेश सरकार को

-अयोध्या केस: चीफ जस्टिस रंजन गोगोई बोले- सुन्नी बोर्ड को वैकल्पिक जमीन देना जरूरी

  • अयोध्या केस: चीफ जस्टिस रंजन गोगोई बोले-
  • विवादित जमीन के तीन हिस्से करने की मांग गलत
  • बाहर हिंदुओं की पूजा सदियों तक चलती रही
  • अयोध्या केस: चीफ जस्टिस रंजन गोगोई बोले-
  • चबूतरा, भंडारा, सीता रसोई से भी राम जन्म दावे की पुष्टि होती है
  • हिंदू परिक्रमा भी किया करते थे, टाइटल सिर्फ आस्था से साबित नहीं होता

क्या था इलाहबाद हाईकोर्ट का फैसला

30 सितंबर को इलाहबाद की लखनऊ खंडपीठ ने श्रीरामजन्म भूमि विवाद पर ऐतिहासिक फैसला सुनाया था। जस्टिस सुधीर अग्रवालए जस्टिस एस यू खान और जस्टिस डी वी शर्मा की पीठ ने विवादित 2ण्77 एकड़ भूमि को रामलला विराजमानए निर्मोही अखाड़े और सुन्नी वक्फ बोर्ड के बीच बराबर हिस्सों में बांट दिया था। हाई कोर्ट ने अपने फैसले में पुरातत्व विभाग की रिपोर्ट को आधार मानते हुए कहा था कि खुदाई में विवादित स्थान पर मंदिर का प्रमाण मिला है। साथ ही भगवान राम के जन्म होने की मान्यता भी शामिल थी। हालांकि कोर्ट ने ये भी कहा था कि साढ़े चार सौ साल से मौजूद इमारत के ऐतिहासिक तथ्यों को भी अनदेखा नहीं किया जा सकता है। वहीं इलाहबाद हाईकोर्ट के इस फैसले के खिलाफ दिसंबर में हिंदू महासभा और सुन्नी वक्फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। जिसके बाद शीर्ष अदालत ने 9 मई 2011 को पुरानी स्थिति बरकरार रखने का आदेश दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here