सहायक राजस्व अधिकरी और बिल कलेक्टर निलंबित, आयुक्त ने दिए विभागीय जांच के आदेश

0
34
ashish singh

इंदौर: आयुक्त आशीष सिंह को झोन क्रमांक 07 वार्ड 32 में स्थित स्कीम नं. 78 प्रथम (लोहा मण्डी) के संबंध में जानकारी प्राप्त हुई कि, वहा पर स्थित कई प्लाटों पर भवन निर्माण होकर भवन स्वामियों द्वारा व्यवसाय किया जा रहा है किन्तु नगर निगम, इंदौर में केवल प्लाट का सम्पत्तिकर व अन्य कर जमा कराया जाकर निगम को बड़ी मात्रा में वित्तीय हानि पहुँचाई जा रही है।

उक्त के संबंध में आयुक्त सिंह द्वारा उपायुक्त राजस्व लता अग्रवाल को झोन क्रमांक 07 वार्ड 32 में स्थित स्कीम नं. 78 प्रथम (लोहा मण्डी) के सम्पत्तिकर खातो की जांच करने तथा मौका निरीक्षण कर वस्तुस्थिति प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए।

आयुक्त सिंह के निर्देश के पालन में उपायुक्त अग्रवाल द्वारा 11 जून को झोन क्रमांक 7 के वार्ड 32 न्यू लोहा मण्डी का निरीक्षण किया गया। न्यु लोहा मण्डी में मौके पर लगभग 1800-2000 वर्गफीट के 44 ऐसे भवन पाये गये जहा पर प्लाट पर दो से तीन मंजीला भवन का निर्माण किया जाकर व्यवसाय किया जा रहा था जबकि मौके पर भवन निर्माण कर व्यवसाय किये जाने पर व्यवसायीक दर से भवन का जमा किया जाना था। सम्पत्तिकर व अन्य कर किन्तु निगम रिकार्ड में केवल प्लाट दर्शाया जाकर प्लाट का सम्पत्तिकर जमा किया जा रहा था जिससे निगम को भारी वित्तीय हानि हो रही थी।

उपायुक्त अग्रवाल की मौका रिपार्ट पर आयुक्त सिंह द्वारा प्रथम दृष्टया क्षेत्रीय सहायक सहायक राजस्व अधिकारी राजेन्द्र राठौर एवं क्षेत्रीय बिल कलेक्टर विनोद जावरे द्वारा निगम को वित्तीय हानि पहुचाने का कृत्य उजागर होने पर क्षेत्रीय सहायक राजस्व अधिकारी राजेन्द्र राठौर एवं क्षेत्रीय बिल कलेक्टर विनोद जावरे को तत्काल निलंबित किया जाकर इनके विरुद्ध विभागीय जांच संस्थित करने के निर्देश दिए गए। इस वार्ड के बिल कलेक्टर जावरे द्वारा पूर्व में भी सम्पत्तिकर की कम राशि जमा करने पर इनके विरुद्ध निलंबन की कार्यवाही की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here