Breaking News

लापता भारतीय विमान का नहीं लगा पता, ग्रामीणों का दावा- पहाड़ी पर देखा था धुआं | Arunachal Villagers saw smoke in Mountain Hills on missing of IAF An-32 Aircraft Route…

Posted on: 07 Jun 2019 08:52 by Pawan Yadav
लापता भारतीय विमान का नहीं लगा पता, ग्रामीणों का दावा- पहाड़ी पर देखा था धुआं | Arunachal Villagers saw smoke in Mountain Hills on missing of IAF An-32 Aircraft Route…

चीन सीमा के पास से गायब हुआ भारतीय वायुसेना के विमान एएन-32 का चार दिन बाद भी पता नहीं चल पाया है। विमान में सात अधिकारियों सहित 13 लोग सवार थे। विमान की तलाश में बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है, बल्कि इस काम में वायुसेना, थलसेना और नौसेना भी लगी है। इतना ही नहीं, विमान की खोज के लिए इसरो का सहारा भी लिया जा रहा है।

वायुसेना के एक अधिकारी ने कहा कि हेलीकाॅप्टरों द्वारा बचाव एवं खोजी अभियान को खराब रोशनी के कारण रोक दिया गया है। हालांकि शुक्रवार को फिर शुरू होगा। सी130जे रात में अपना मिशन जारी रखेंगे। हालांकि अभियान में अब तक कोई सफलता हाथ नहीं लगी है।
ग्रामीणों का दावा, पर्वत के पास देखा था धुआं

इधर, विमान के खोजी के बीच अरुणाचल प्रदेश के सियांग जिले के मोलो गांव के ग्रामीणों ने दावा किया है कि उन्होंने पर्वत से घना काला धुआं निकलते देखा था। ग्रामीणों के खुलासे के बाद पहाड़ी क्षेत्र में खोजी अभियान तेज कर दिया गया है। इस बीच मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने सियांग, पश्चिम सियांग, लोअर सियांग तथा शि-योमी जिलों के उपायुक्तों से मुलाकात की और उन्हें तलाश अभियान तेज करने के निर्देश दिए।

वायुसेना के प्रवक्ता ग्रुप कैप्टन अनुपम बनर्जी के मुताबिक घने जंगल, दुर्गम इलाके और खराब मौसम की चुनौतियों के बावजूद तीनों सेनाओं ने सर्च ऑपरेशन को और तेज कर दिया गया है। इतना ही नहीं, विमान की खोज में सुखोई-30 विमान को भी तैनात किया गया है।

सुखोई और सी-130जे रात में भी विमान की लोकेशन का पता लगाना जारी रहेगी। इसके अलावा सेना, आईटीबीपी और स्थानीय पुलिस के जवान भी लगातार अभियान चला रहे हैं। वायुसेना के एएन-32 मालवाहक विमान ने असम के जोरहट से अरुणाचल प्रदेश के मेनचुका के लिए उड़ान भरी थी। उड़ान भरने के 35 मिनट बाद ही विमान का ग्राउंड स्टाफ से संपर्क टूट गया था।

इधर, कांग्रेस ने बुधवार को इस मामले में रक्षा मंत्रालय पर सवाल उठाए। पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि 2016 में इसी तरह अंडमान और निकोबार द्वीप से एएन-32 विमान लापता हो गया था, जिसका कोई सुराग नहीं मिला। इसके बावजूद रक्षा मंत्रालय ने कोई ठोस कदम क्यों नहीं उठाया। उन्होंने कहा कि लापता विमान में एसओएस सिग्नल यूनिट 14 साल पुरानी थी। जब 2009 में भारत और यूक्रेन के बीच एएन-32 विमानों के अपग्रेडेशन के लिए करार हो चुका था, तो अब तक इन्हें अपडेट क्यों नहीं किया गया।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com