राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में कलाकारों ने दी मनमोहक प्रस्तुति

राज्य सरकार के निर्देश पर आज ब्लॉक स्तरीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन किया गया।

0
45
राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव

रायपुर : राज्य सरकार के निर्देश पर आज ब्लॉक स्तरीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव का आयोजन किया गया। जिले के छिंदगढ़, कोंटा और सुकमा विकासखंड में आयोजित इस महोत्सव में विभिन्न गांव से आए कलाकारों ने मनमोहक प्रस्तुति दी। आयोजन का शुभारंभ मुख्य अतिथि जिला पंचायत अध्यक्ष कवासी हरिश द्वारा किया गया। इस अवसर पर नगर पालिका सुकमा अध्यक्ष श्रीमती लक्ष्मी बाई व उपाध्यक्ष राजू साहू, जनपद पंचायत अध्यक्ष सुकमा आराधना मरकाम, जिला पंचायत सीईओ नूतन कुमार कंवर, डिप्टी कलेक्टर श्री रवि साहू, आयुक्त आदिम जाति विभाग रामटेके सहित अधिकारी कर्मचारी गण व जनप्रतिनिधिगण उपस्थित थे।

ब्लॉक स्तरीय नृत्य महोत्सव की शुरुआत छत्तीसगढ़ के राज्य ‘‘गीत अरपा पैरी के धार’’ के गायन से हुई। इसके बाद छत्तीसगढ़ी लोक नृत्य से संबंधित कलाकारों ने अपनी प्रतिभा दिखाई। सुकमा विकासखंड स्तरीय राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में प्रथम स्थान जीरमपाल, द्वितीय नागारास और तृतीय स्थान रामाराम की नृत्य दल रही। चिंतावरम की नृत्य दल को सांत्वना पुरस्कार मिला। विकासखंड स्तर पर प्रथम तीन स्थान आने वाले दल जिला स्तरीय आयोजन में भाग लेंगे। इस अवसर पर मुख्य अतिथि कवासी हरीश ने अपने उद्बोधन में कहा कि इस प्रकार के आयोजन से ग्रामीण प्रतिभाओं को सामने आने का मौका मिलता है। उन्होंने कलाकारों के हौसला बढ़ाते हुए कहा कि बस्तर के लोक नृत्य की ख्याति को हमें बचाए रखना होगा। वहीं जनपद पंचायत अध्यक्ष मरकाम ने बच्चों से आग्रह करते हुए कहा कि हमें अपनी लोक संस्कृति, रीति-रिवाज, परंपरा को कभी भुलना नहीं चाहिए। इसी तरह से छिन्दगढ़ विकासखण्ड के ग्राम इडजेपाल गोंडी नृत्य, किंदरवाड़ा गेड़ी नृत्य व मड़ई नृत्य, मारेंगा धुर्वा नृत्य व हुलेर नृत्य, कुकानार धुर्वा नृत्य,पेदारास गोंडी नृत्य, सौतनार धुर्वा नृत्य, बोदारास धुर्वा नृत्य का आयोजन किया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here