दुश्मन को सबक सिखाने के लिए सेना आजाद: डीएस हुड्डा | To teach a lesson to the Enemy Army is Independent: DS Hooda

0
40
indian army soldier viral video__1546492093_47.247.207.163

लोकसभा चुनाव में सेना के नाम पर राजनीतिकरण होने से पूर्व सैनिकों नाराजगी है। इसी बीच लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) डीएस हुड्डा ने कहा कि दुश्मन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सेना हमेशा से ही आजाद रही है। हालांकि मोदी सरकार ने सेना को सर्जिकल स्ट्राइक की मंजूरी देकर बड़ा कदम उठाया था।

गौरतलब है कि लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) हुड्डा की अगुवाई में 2016 में सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में सेना को खुली छूट देने के बारे में कुछ ज्यादा ही बातें हो रही है। हुड्डा के मुताबिक आजादी के बाद से सेना सीमा पर मुंहतोड़ जवाब देने के लिए आजाद है। सेना अब तक तीन-चार युद्ध लड़ चुकी है।

चुनाव प्रचार में सेना का नाम आने पर भड़के पूर्व सैनिक

लोकसभा चुनाव में भारतीय सेना के नाम पर वोट मांगने को लेकर पूर्व सैनिकों ने नाराजगी जताई है। 156 पूर्व सैनिकों ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को खत लिखकर बताया कि मोदी सरकार के मंत्री और भाजपा नेता चुनाव प्रचार के दौरान भारतीय सेना को ‘मोदीजी की सेना‘ बता रहे हैं। खत में लिख है कि भारतीय वायुसेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक जैसे सेना के आॅपरेशन का केंद्र सरकार श्रेय ले रही है, जो ठीक नहीं है। पूर्व सैनिकों ने राष्ट्रपति से सेना के राजनीतिक इस्तेमाल पर रोक लगाने की मांग की।

Read More : SC का बड़ा आदेश, चुनावी चंदे का हिसाब दें पार्टियां | SC orders to Election Parties

पूर्व सैनिकों का कहना है कि भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के पीओके में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की थी। इसका श्रेय केंद्र सरकार ले रही है और भारतीय सेना को मोदीजी की सेना बता रहे हैं। इतना ही नहीं, चुनावी फायदा लेने के लिए विंग कमांडर की तस्वीरों का इस्तेमाल भी किया जा रहा है, जो बिलकुल ठीक नहीं है। गौरतलब है कि एक चुनावी सभा में यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने सर्जिलक स्ट्राइक का जिक्र करते हुए भारतीय सेना को आर्मी की सेना बताया था।

वहीं महाराष्ट्र के लातूर की एक रैली में पीएम मोदी ने पहली बार मतदान करने जा रहे मतदाताओं से कहा था कि वे अपने मत उन बहादुर लोगों को समर्पित करें, जिन्होंने पाकिस्तान के बालाकोट में हवाई हमले को अंजाम दिया। हालांकि पत्र में बताया कि वरिष्ठ रिटायर्ड अफसरों की शिकायतों पर चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया है। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इस बयान को लेकर नोटिस जारी किया गया है।

Read More : EC का चला डंडा, सोशल मीडिया से हटाई 500 से ज्यादा पोस्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here