Breaking News

सेब और अखरोट होंगे महंगे, दालों पर नहीं होगा असर

Posted on: 25 Jun 2018 10:36 by Praveen Rathore
सेब और अखरोट होंगे महंगे, दालों पर नहीं होगा असर

नई दिल्ली। भारत और अमेरकिा में आयात शुल्क लगाने को क्रिया-प्रतिक्रियाएं हो रही हैं। अमेरिका ने भारत से आयात होने वाली कुछ वस्तुओं पर शुल्क बढ़ाया तो जवाब में भारत सरकार ने भी अमेरिका से आयात होने वाली वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ा दिया। आयात शुल्क भारत में कुछ कमोडिटी खासकर सेब और अखरोट पर ज्यादा असर पड़ेगा। अमेरिका से आयात होने वाली जिंसों में 15 प्रतिशत तक दाम बढ़ जाएंगे, इसके एवज में भारतीय बाजार में घरेलू व्यापारी भी दाम बढ़ाकर वसूलेंगे और मौके का फायदा उठाएंगे। इधर दालों के आयात पर ज्यादा असर फिलहाल नहीं पड़ेगा, क्योंकि अभी देश में पर्याप्त दालों का स्टॉक है और जरूरत पड़ी तो अमेरिका से छोडक़र अन्य देशों से दालों का आयात किया जा सकता है।

 

akhrot

बाजार सूत्रों के अनुसार, अमेरिका से आने वाले एग्रो प्रॉडक्ट्स पर अधिक इम्पोर्ट ड्यूटी लगाने के भारत के कदम से अखरोट के दाम जल्द बढ़ जाएंगे। इसके अलावा जुलाई से सेब की कीमतों में भी वृद्धि होगी। इससे जम्मू और कश्मीर और हिमाचल प्रदेश के किसानों को फायदा होगा।

अखरोट के खुदरा दाम 15 प्रतिशत बढ़ सकते हैं। सेब उगाने वाले किसानों को जुलाई से शुरू होने वाले कटाई के सीजन में 8-9 प्रतिशत अधिक कीमतें मिल सकती हैं।

pulses-1

इम्पोर्ट ड्यूटी बढऩे से दालों की कीमतों और उपलब्धता पर असर नहीं पड़ेगा। दालों के व्यापारियों ने बताया कि वे जरूरत पडऩे पर कनाडा, ऑस्ट्रेलिया और अफ्रीका से चना और मसूर का इम्पोर्ट कर सकते हैं। अभी देश में दालों का पर्याप्त स्टॉक मौजूद है। भारत अपने घरेलू मांग को पूरा करने के लिए अमेरिका, चिली और यूक्रेन से अखरोट का इम्पोर्ट करता है। देश में अखरोट का उत्पादन 2.18 लाख टन का है और यह मुख्यतौर पर जम्मू और कश्मीर में होता है।

अखरोट पर इम्पोर्ट ड्यूटी मई में 30 पर्सेंट से बढ़ाकर 100 पर्सेंट की गई थी और अब इसे और बढ़ाकर अगस्त से 120 प्रतिशत किया जा रहा है। इससे डिमांड पर असर पड़ेगा और खुदरा कीमतों में बढ़ोतरी होगी। अखरोट का दाम अभी 450-550 रुपये प्रति किलोग्राम है और इसमें 70-80 रुपये प्रति किलोग्राम की वृद्धि हो सकती है। अखरोट का चिली और यूक्रेन से इम्पोर्ट भी बढ़ सकता है। हालांकि यह स्पष्ट नहीं है कि अखरोट पर इम्पोर्ट ड्यूटी ऑस्ट्रेलिया, ईरान और अफगानिस्तान जैसे अन्य देशों पर लागू होगी या नहीं। सेब पर इम्पोर्ट ड्यूटी अगस्त से 50 प्रतिशत से बढ़ाकर 75 प्रतिशत की जा रही है। देश में सेब का उत्पादन 15 लाख टन है और इसका सालाना 2.5 लाख टन इम्पोर्ट किया जाता है। भारत के सेब के इम्पोर्ट का 50 प्रतिशत से अधिक अमेरिका से होता है। अमेरिका से सेब फरवरी-मार्च में भारत में कटाई समाप्त होने पर इम्पोर्ट होता है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com