जानवरों को पालना भी होता है वास्तु नजरिए से शुभ, यह जानवर लाता है घर में पैसा

0
129
janwar

घर में जानवरों को पालना हमे मानसिक सुकुन तो देता ही है लेकिन क्या आप इनसे जुडी यह बात जानते है कि यह आप पर आने वाली बूरी शक्तियों को भी आपसे दूर करते है। ज्यादातर लोग घर में कोई प्राणी या पक्षी पालने के पहले अक्सर ज्योतिष-वास्तुशास्त्र की सलाह लेते है। प्राणियों और पक्षियों में अनिष्ट तत्वों को काबू में रखने की अद्भुत शक्तियां होती हैं। इस ब्रह्मांड में व्याप्त नकारात्मक शक्तियों को निष्क्रिय बनाने की ताकत इन पालतू प्राणियों में होती है।

कुत्तें

पालतू जानवरों की बात कर रहे है तो सबसे पहले हमारे जहन में कुत्तों का नाम ही आता है। कुत्तों को इंसानों से भी ज्यादा वफादार माना जाता है। इसके अलावा ज्योतिषियों का मानना है कि संतान प्राप्ति के लिए भी कुत्तों को शुभ माना जाता है। यदि संतान की प्राप्ति नहीं हो रही हो तो काले कुत्ते को पालने से संतान की प्राप्ति होती है। कुत्ता पालने से लक्ष्मी आती है और घर के रोगी सदस्य की बीमारी अपने ऊपर ले लेता है।

गाय

गाय को हिन्दू मान्यताओं के अनुसार मां की तरह माना जाता है। हमारे शास्त्रों में गाय के संबंध में अनेक बातें लिखी हुई हैं जैसे- शुक्र की तुलना सुंदर स्त्री से की जाती है। इसे गाय के साथ भी जोड़ते हैं। अतः शुक्र के बूरे प्रभाव से बचने के लिए गौदान का प्रावधान है। जिस भू-भाग पर मकान बनाना हो तो पंद्रह दिन तक गाय-बछड़ा बांधने से वह जगह पवित्र हो जाती है। भू-भाग से सभी बूरी शक्तियों का नाश हो जाता है। पहले कन्या के विवाह में दहेज के जगह गाय का दान किया जाता था।

तोता

हरा तोते को बुध ग्रह के साथ जोड़कर देखा जाता है। घर में तोता पालने से बुध की बूरी दुष्टि परिवार से दूर ही रहती है।

घोड़ा

शास्त्रों के अनुसार घोड़ा पालना भी शुभ होता है। माना जाता है कि काले घोड़े की नाल को घर में रखने से शनि के प्रकोप से बचा जा सकता है।

मछली

शास्त्रों के अनुसार घर में फिश-पॉट रखना चाहिए। यह सुख-समृद्धिदायक होता है। ऐसा कहा जाता है कि मछलियां मालिक पर आने वाली आपदा अपने ऊपर ले लेती है।

कबूतर

कबूतरों को शिव-पार्वती के प्रतीक रूप माना जाता है, परंतु वास्तुशास्त्र की दृष्टि से कबूतर बहुत अपशगुनी गिना जाता है। इन्हें घर में रखना आपके घर में हमेशा कुछ ना कुछ बूरा होते रहने के आसार बने रहते हैै।

बिल्ली

दुनिया के अधिकांश देशों में बिल्ली का दिखना अपशगुन माना जाता है। काली बिल्ली को अंधकार का प्रतीक माना जाता है। ऐसा कहा जाता है कि बिल्ली में नकारात्मक शक्ति होती है। अनोखी बात यह भी है कि ब्रिटेन में काली बिल्ली को शुभ माना जाता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here