Breaking News

इस मंदिर में जो रात को ठहरा वह बन जाता है पत्थर का

Posted on: 12 Jun 2018 12:26 by shilpa
इस मंदिर में जो रात को ठहरा वह बन जाता है पत्थर का

नई दिल्ली :राजस्थान की रेतीली धरती अपने सीने में कई रहस्य दबाये हुए है। ऐसे राज की अच्छेअच्छे  लोगों को पसीने छूट जाते है।  कुलधारा गांव और भानगढ़ का किला ऐसे ही रहस्यमय स्थानों में से एक है जो भूतहा स्थान के रुप में पूरी दुनिया में जाने जाते है। इसके अलावा एक रहस्यमय स्थान है जो बारमेर जिले में स्थित है यह स्थान है किराडू का मंदिर

किराडू  मंदिर के विषय में ऐसी मान्यता है कि यहां शाम ढलने के बाद जो भी रह जाता है या तो उसकी मृत्यु हो जाती है या वह पत्थऱ का बन जाता है।  यहां ये मान्यता वर्षो से चली आ रही है। पत्थर बन जाने के डर से यहा शाम ढलते ही पूरा इलाका सुनसान हो जाता है। यह मंदिर खजुराहो मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है और प्रेमियोंको आकर्षित करता है लेकिन जिस तरह की मान्यताए यहा है उसके बाद कोई भी यहा शाम के बाद ठहरने की हिम्मत नही करता।

 इस अजब दास्तान की गवाह है एक औरत की पत्थर की मूर्ति जो सिहनी गाँव में स्थित है जो किराडू से कुछ ही दूर है।

इस तरह किराडू के लोग बन गए पत्थर के

वर्षो पहले एक तपस्वी अपने शिष्योंकी टोली के साथ किराडू गाँव में पधारे। एक दिन तपस्वी शिष्योंको गाँव में छोडकर देशाटन के लिए चले गए। इस बीच शिष्यों का स्वास्थ्य ख़राब हो गया।  लेकिन गाँव वालो ने उन बिमारोंकी कोई मदद नही की। जब तपस्वी वापिस आये और अपने शिष्योंकी दुर्दशा देखकर अत्यंत क्रोधित हुए और सब गाँव वालों को शाप दे दिया ” जहा के लोगोंके हृदय पाषाण के है वह इन्सान बने रहने योग्य नही है इसलिए सब पत्थर के हो जाये ” वही गाँव में एक कुम्हारन थी जिसने  शिष्यों की मदद की थी उसपर दया करते हुए कहा “तुम गाँव से चली जाओ वरना तुम भी पत्थर की बन जाओगी,लेकिन याद रखना जाते समय पीछे मुडकर मत देखना”

कुम्हारन गाँव से चली तो गयी लेकिन उसके मन में यह संदेह होने लगा की तपस्वी की बात सच है भी या नही तो वह पीछे मुड़कर देखने लगी और वह पत्थर की बन गई। सिहणी गावं में कुम्हार की पत्थर की मूर्ति आज भी उस घटना की याद दिलाती है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com