अमेरिका का इलाज अब इंदौर में संभव| Robotic treatment of America in Indore.

0
17

डॉ आभा अग्रवाल ने अमेरिका में पेशेंट सेप्टी और हेल्थकेयर में 25 वर्षो तक नाम अर्जित करने के बाद इंदौर में A4 क्लीनिक्स की शुरुआत की, जिसका उदेश्य लकवा, स्टोक, पार्किसन, सेरिब्रल पाल्सी आदि न्यूरो और मस्तिष्क के रो्गो से उत्पन्न शारीरिक असमर्थता को भारत से भगााना है।

Ghamasan.com की खास बातचीत से डॉ आभा अग्रवाल ने बताया कि २४ ,25 साल से US में डॉ हूं। मेरा उदेश्य यह था कि यहां बहुत सारे मरीज होते है जिनको लकवा, स्टोक और न्युरो और भी बहुत सारी बिमारियॉं होती है, जिनको इलाज की जरूरत होती है। ऐसे इलाज अपने इंडिया में कही भी नहीं हो पाते है जिनकी वजह से मरीज सदमें में आ जाते है, तो हम एक ऐसा सेंटर शुरू करना चाहते है जो इस समस्या को हल कर सके।

युरोप में नई टेक्नोलॉजी है जिनकी वजह से अच्छे रिजल्ट मिलते है, उन टेक्नोलाजी को हम मघ्यप्रदेश में पहली बार लेकर आए है जिसकी वजह से मरीज को एक अच्छा इलाज मिल सके। रोबोटिक टेक्नोलॉजी और भी बहुत सारी टेक्नोलॉजी है जिससे बेलेस की शेड्यूल दी जाती है। यहां इलाज के लिए मरीज से एक तिहाई से भी कम पैसे लेते है।

कुछ सदस्य और डॉ द्वारा बताया की एक बार मेमोरी कम हो जाए तो रिकबरी नहीं कर सकते है लेकिन मॉडन साइंस ने इस धारणा को गलत साबित कर दिया।

पिंकी राठौर की रिपोर्ट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here