2 से 3 तिमाही में एयरटेल राजस्व में नंबर 1 रैंक फिर से हासिल कर सकता है

0
28

अग्रिम २-3 तिमाही में जहाँ एक तरफ वोडा आईडिया मर्जर के नियमो का पालन करते हुए अपनी राजस्व हिस्सेदारी खोयेगा,वही सुनील मित्तल की कंपनी, टाटा टेलीसर्विसेस की अधिग्रहण की प्रकिया होते-होते राजस्वके पैमाने में देश की नंबर 1 कंपनी फिर से बन जाएगी । एनालिसिस मेसन के भारत एवं मिडिल ईस्ट के पार्टनर और हेड रोहन धामिजा ने कहा कि ऐतिहासिक तौर पर टेलीकॉम सेक्टर में वैश्विक स्तर परयहसिद्ध हो चूका है कि विलय के बाद गठित कंपनी परनेटवर्क एकीकरण के दौरान उसकी संयुक्त राजस्व में 200 बेसिस पॉइंट्स कीकमीआती है”।

लेकिन वीआईएल के मामले में, उन्होंने कहा, कि राजस्व का नुकसानऔर भी “बड़ा” हो सकता है क्योंकि भारत का दूरसंचार बाजार बहुत प्रतिस्पर्धी बना हुआ हैlजहाँ एयरटेल और जियो ने 4 जी में अपना निवेश बढ़ाया है, और अगले छह महीनों में स्मार्ट फोन उपयोगकर्ता को और बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करने की संभावना जताई है, वही वीआईएल अपने नेटवर्क एकीकरण के साथ व्यस्त होगा।

ग्लोबल रेटिंग एजेंसी फिच के डायरेक्टर नितिन सोनी ने कहा “टाटा टेली के अधिग्रहण समाप्त होने तक एयरटेल आसानी से वोडाफोन आइडिया के राजस्व में नेतृत्व को वापस पा सकता है।”एयरटेल ने वीआईएल को आरएमएस पर अपना नंबर 1स्पॉट खो दिया है, लेकिन ब्रोकरेज फर्म क्रेडिट सुइस ने कहा, कि वीआईएल की आरएमएसबढ़त बहुत मामूली है।

विशेषज्ञों ने कहा कि रेग्यूलेटर्स के आंकड़ों के मुताबिक, वीआईएलका राजस्व मार्च 2017 (विलय घोषणा के समय) में 20.7% से गिरकर लगभग 33% हो गया हैl एयरटेल (निकटतम प्रतिद्वंद्वी) लगभग 31% पर, और रिलायंस जियो 22% के अधिक के साथ तीसरी रैंक पर तेजी से मार्किट में पकड़ बना रहा है l एयरटेल, टाटा टेली डील के लिए नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) की स्वीकृति का इंतज़ार कर रही है, जिसके बाद वह डीओटी मंजूरी मांगेगी l कंपनी के सीईओ गोपाल विट्टल ने कर्मचारियों से आग्रह किया है कि वे आरएमएस लाभ के लिए कोई कसर नहीं छोड़ें।जेएम फाइनेंशियल ने कहा कि वीआईएल को “कठिन” परिस्थिति का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि यह रेवन्यू खो रहा है, जबकि भारती “स्थिरता” देख रही है, वही जियो आगे बढ़ने के लिए तैयार है।

एसबीआई कैप सिक्योरिटीज ने कहा कि वीआईएलकिनई निर्मित इकाई को जियो से अत्यधिक मूल्य निर्धारण दबाव का सामना करना पड़ रहा है, खासकरयेध्यान में रखते हुएकि मुकेश अंबानीने 2021 तकजिओ के लिए 50% आरएमएसका लक्ष्यरखा है। धामिजा ने कहा कि वीआईएल विलय प्रक्रिया के तहत उपभोक्ता और रेवन्यू मार्केट कैप नियमों के अनुरूप होने के लिए अधिक राजस्व और ग्राहक जाते हुए देख सकता है।

दूरसंचार नियमों के अनुसार विलय वाली इकाई के संयुक्त आरएमएस और कस्टमर मार्केट शेयर (सीएमएस) किसी भी सर्कल में 50% से अधिक नहीं हो सकताl वीआईएल को अपने विलय सौदे के बंद होने के बाद एक वर्ष में रेवन्यू शेयर कैप नियमों का पालन करना होगा। वर्तमान में, वीआईएल चार सर्किलों में – गुजरात, हरियाणा, केरल और महाराष्ट्र -डीओटी की निर्धारित 50% आरएमएस कैप का उल्लंघन करता है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here