AN-32 विमान हादसा: वायुसेना ने की पुष्टि, कोई जिंदा नहीं बचा

0
15

नई दिल्ली: वायुसेना के लापता AN 32 विमान का मलबा मिलने के बाद उसमे मौजूद यात्रियों की तलाश तेज हो गई थी। क्रैश साईट का पता लगाने के बाद भारतीय वायु सेना, थल सेना और सामान्य पर्वतारोहियों की एक टीम को क्रैश हुई जगह पर एयरलिफ्ट किया गया था लेकिन इस टीम को क्रैश साइट पर कोई जीवित नहीं मिला।

वायुसेना ने इस बारे में विमान में सवार सभी 13 लोगों के परिवार को सूचना दे दी है। वायुसेना ने जान गंवाने वाले सभी यात्रियों को श्रद्धांजलि दी है।

सामने आई तस्वीर

AN 32 विमान का मलबा अरुणाचल प्रदेश के लीपो में पाया गया है जोकि जंगलों वाला इलाका है. 12 हजार फूट की ऊंचाई पर जंगल में मिले विमान के मलबे की कुछ तस्वीरें सामने आई हैं, जिसमे मलबा बिखरा हुआ नज़र आ रहा है और आस पास के पेड़ भी जले हुए दिख रहे हैं। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि विमान के क्रेश होने के बाद पेड़ों में आग लग गई होगी। बता दें कि, जहां विमान क्रेश हुआ है वहां से चीनी सीमा काफी नजदीक है।

पहुंची थी सर्च

लापता विमान का मलबा मिलने के बाद वायुसेना ने 15 पर्वतारोहियों को एमआई-17s और एडवांस लाइट हेलिकॉप्टर (ALH) से लिफ्ट करके मलबे वाली जगह के नजदीक तक पहुंचाया था। इस टीम ने विमान में मौजूद 13 लोगों की तलाश की थी लेकिन कोई जिंदा नहीं मिला।

ये लोग थे सवार

जीएम चार्ल्स, एच विनोद, आर थापा, ए तंवर, एस मोहंती, एमके गर्ग, केके मिश्रा, अनूप कुमार, शेरिन, एसके सिंह, पंकज, पुताली और राजेश कुमार

चीन की सीमा के पास आखिरी लोकशन

जोरहाट से चीन की सीमा के पास अरुणाचल के मेंचुका के लिए उड़ान भरने वाला वायुसेना का एएन-32 विमान तीन जून को दोपहर करीब एक बजे लापता हो गया था। इस विमान की आखिरी लोकेशन अरुणाचल के पश्चिम सियांग जिले में चीन की सीमा के पास मिली थी। एअररूट से 15 से 20 किलोमीटर दूर अरुणाचल प्रदेश के टेटो इलाके के पास घने जंगल में विमान का मलबा मिला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here