आखिर क्यों इन नौसेना की जाबांज महिला अफसरों को मिलेगा, ‘तेंजिंग नॉरगे पुरस्कार’

0
41
no sena

पूरी दुनिया का चक्कर लगाकर नौसेना की जाबांज महिलाएं सोमवार को भारत लौट आईं है। आठ महीने से ज्यादा समय में समुद्र के रास्ते पूरी दुनिया घुमकर आने वाली INSV (Indian Naval Sailing Vessel) तारिणी की चालक दल की महिला सदस्य गोवा पहुंच गईं है। लेफ्टिनेंट कमांडर वर्तिका जोशी की अगुवाई में टीम ने 254 दिन में 26 हजार समुद्री मील की यात्रा पूरी की थी। इनके पहुंचने पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण और नौसेना प्रमुख लांबा ने इन जाबांज महिलाओं का स्वागत किया।

बता दें कि समुद्र में 254 दिनों तक पूरे विश्व का भ्रमण करने वाली भारतीय नौसेना की 6 जाबांज महिलाओं को तेंजिंग नॉरगे पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। हालांकि तेंजिंग नॉरगे राष्ट्रीय साहसिक पुरस्कार, भूमि, समुद्र और वायु पर साहसिक कार्य के क्षेत्र में उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए दिया जाता है। भारतीय नौसेना की जाबांज 6 महिलाओं ने पनडुब्बी INSV तारिणी से समुद्र में 8 महीने 254 दिनकी यात्रा पूरी की थी। इस दौरान इन महिलाओं ने 3 महासागर, 4 महाद्वीप और 5 देशों का सफर तय किया था।

via

हालांकि तारिणी के क्रू मेंबर्स में सिर्फ महिलाएं थीं। नाविका सागर परिक्रमा के लिए सभी महिलाएं यात्रा पर गई थीं। पिछले साल 10 सितंबर को आईएनएस मांडवी बोट पुल से इन्हें रवाना किया गया था।

इस अभियान का नेतृत्व लेफ्टिनेंट कमांडर वर्तिका जोशी कर रही थीं और इसमें चालक दल की सदस्य लेफ्टिनेंट कमांडर प्रतिभा जामवाल, स्वाति पी, लेफ्टिनेंट ऐश्वर्या बोड्डापति, एस विजया देवी और पायल गुप्ता शामिल थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here