देश में महिलाएं लगातार अपनी मेहनत करके ऊंचाई छू रही है। जिसकी वजह से परिवार, समझ और देश का भी नाम रोशन कर रही है। भारत की गौरव कैडेट हरवीन कहलों ओटीए चेन्नई में शामिल हो गई हैं। 11 महीने की कठोर ट्रेनिंग के बाद, उन्हें भारतीय सेना में एक अधिकारी के रूप में नियुक्त किया गया। इस दौरान पासिंग आउट परेड से जो तस्वीरें सामने आई हैं वो दिल को छू लेने वाली हैं।

लद्दाख की सेना अधिकारी बनी 

अपने बच्चों को गोद में लिए इन महिलाओं के चेहरे पर वो गर्व और आत्मविश्वास देखते बन रहा है। केवल हरवीन ही नहीं लद्दाख की पहली सेना अधिकारी बनीं रिगजिन चोरोल भी अपने बच्चे को गोद में लिए प्यारी सी मुस्कुराहट के साथ सबको बता रही हैं कि उन्होंने अपने पति का सपना पूरा कर लिया है। हरवीन कहलों के पति 129 SATA रेजीमेंट के मेजर केपीएस कहलों ने कर्तव्य के दौरान अपने जीवन का बलिदान दिया था। वहीं, रिगजिन चोरोल के पति रिगजिन खंडप लद्दाख स्काउट्स की जेडांग सुंपा बटालियन में एक राइफलमैन थे। खंडप की मौत ड्यूटी के दौरान एक दुर्घटना में हो गई थी। अपनी पति की मौत के बाद दोनों ही कमजोर नहीं पड़ीं. दोनों ने ठान ली थी कि वह अपने पतियों का सपना पूरा करेंगी।

चोरोल ने कही ये बात 

सेना अधिकारी बनीं रिगजिन चोरोल ने कहा कि यह उनके पति का सपना था कि वह सेना में अधिकारी बनें. इसलिए उन्होंने तय किया कि वह इस सपने को पूरा करेंगी। उन्होंने कहा वह इस 11 महीने के सफर में अपने बच्चे का 11 महीने का सफर नहीं देख सकीं लेकिन, उन्हें पता है कि यह सबकुछ उनके बच्चे के लिए ही है। उन्होंने कहा कि आज वह बेहद गर्व महसूस कर रही हैं।

Also Read : Sidhu Moosewala की मौत का 25 नवंबर तक नहीं मिला इंसाफ तो परिवार के साथ छोड़ दूंगा देश, पिता ने दी चेतवानी

35 महिलाएं सेना में शामिल 

दरअसल, ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी में शनिवार (29 अक्टूबर) को पासिंग आउट परेड का आयोजन किया गया था। यहां 35 महिलाओं सहित 100 से अधिक कैडेट्स ट्रेनिंग पूरी करने के बाद सेना में शामिल हो गए हैं। इनमें हरवीन कहलों और रिगजिन चोरोल भी शामिल हैं। चोरोल अर्थशास्त्र में ग्रेजुएट हैं और हरवीन कौर कहलों जालंधर के एक निजी स्कूल में शिक्षिका थीं। दोनों की ही इन तस्वीरों को देख लोग भी बेहद खुश हुए।