Breaking News

इस दिवाली ऐसे जलाए दीपक, जो आपको देंगे सभी कष्टों से मुक्ति

Posted on: 06 Nov 2018 14:37 by shilpa
इस दिवाली ऐसे जलाए दीपक, जो आपको देंगे सभी कष्टों से मुक्ति

हिन्दू परंपरा में दीपक जलाना बहुत ही शुभ माना जाता है। कहते हैं कि इसको जलाने के कई तरह के कष्ट दूर होते हैं। सभी घरों में दीपावली पर दिए जलाने का महत्व बताया गया है। दीपावली पर मिट्टी के दीपक ही जलाने का महत्व है। मिट्टी के दीपक शुभ होते हैं। दीवाली को दीपोत्सव भी कहा जाता है। आओ जानते हैं दीपक के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां।

दीवाली पर अलग अलग तेल के दीपक जलाने के फायदे

तिल के तेल का दीपक जलाने से शनि ग्रह की आपदा से शांति मिलेगी और सभी देवी-देवता प्रसन्न होंगे। राहु और केतु ग्रहों की बुरी दशा को हटाने के लिए अलसी के तेल का दीपक जलाना चाहिए। घर के मंदिर में महुए के तेल का दीपक जलाकर पति की लंबी आयु की कामना की जाती है। सूर्यदेव और भैरवजी को प्रसन्न करने के लिए सरसों का दीपक जलाते हैं जो हमें शत्रुओं से बचाता है। तीन कोनों वाला दीपक चमेली के तेल से भर के जलाने से हनुमानजी की पूजा करनेसे उनकी कृपा हमेशा बनी रहेगी।

दीवाली पर आप किसी भी प्रकार की साधना करना चाहते है या किसी सिद्धि के प्राप्ति कोई अनुष्ठान करने जा रहे है तो आटे का दीपक जलाए। इसे ऐसी पूजा करने के लिए सबसे उत्तम मानते हैं। आर्थिक तंगी से मुक्ति पाने के लिए रोजाना शुद्ध घी का दीपक जलाना चाहिए।

शत्रुओं से बचने या किसी भी आपत्ति के निवारण के लिए मध्य से ऊपर की ओर उठे हुए दीपक का प्रयोग जलाने के लिए करना चाहिए। ईष्ट सिद्धि के लिए या ज्ञान प्राप्त करने के लिए एक गहरा और गोल दीपक प्रज्वलित करें।

Related image

via

अब आपको बताते है कितनी बत्तियां जलाने से क्या फायदा होता है। गणेश भगवान की कृपा पाने के लिए तीन बत्तियों वाला घी का दीपक जलाना चाहिए। जीवन के सभी कष्ट दूर करने के लिए चार मुख वाला सरसों के तेल का दीपक जलाने से भैरव देवता प्रसन्न होते है। किसी क़ानूनी मुकदमे को जीतने के लिए भगवान कार्तिकेय आगे पांच मुखी दीपक जलाना चाहिए। माता लक्ष्मी की कृपा पाने के लिए दीपावली पर सात मुख वाला दीपक जलाना चाहिए। शिव भगवान को प्रसन्न करने के लिए घी या सरसों के तेल का आठ या बारह मुख वाला दीपक जलाना चाहिए। विष्णु भगवान को प्रसन्न करने के लिए सोलह बत्तियों का दीपक जलाना चाहिए।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com