Breaking News

पुनीता दरयानी की एक ग़ज़ल | Punita Daryani ‘GHAZAL’

Posted on: 15 Apr 2019 17:20 by rubi panchal
पुनीता दरयानी की एक ग़ज़ल | Punita Daryani ‘GHAZAL’

ख़्वाहिशें जब सरेआम बिकने लगी।।
बस तभी से ग़ज़ल हूँ मैं लिखने लगी।।

ख़्वाब की चादरें जब मेरी फट गई ।
दर्द की आबरू तब है दिखने लगी।।

मैंने घर से निकाला इन्हें जब से है।
ख़्वाहिशें मेरी दर-दर भटकने लगी।।

कत्ल कितनो की नीयत के होने लगे।
जुल्फ़ रुख़सार पर जब लटकने लगी।।

जीना मुझको नहीं ये कहा मैंनें जब।
साँसे मेरी ये सिर को पटकने लगी।।

Read more : धुंध का हमारे सामाजिक, राजनीतिक, आर्थिक और आध्यात्मिक जीवन में घणा महत्व है

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com