Breaking News

किसान आंदोलन से निपटने पुलिस को मिले 8 वाहन और 2 हजार लट्ठ और चेस्ट गार्ड

Posted on: 31 May 2018 12:06 by Praveen Rathore
किसान आंदोलन से निपटने पुलिस को मिले 8 वाहन और 2 हजार लट्ठ और चेस्ट गार्ड

इंदौर। एक से दस जून तक होने वाले किसान आंदोलन से निपटने के लिए इंदौर जिला पुलिस को अतिरिक्त संसाधन मिले हैं। मुख्यालय से 8 वाहन, दो हजार लट्ठ और दो हजार चेस्ट गार्ड पुलिस को मिले हैं। इधर, सब्जी मंडी में ग्राहकों का दो रोज से तांता लगा हुआ है और सब्जी की कीमतों में 25 फीसदी से ज्यादा इजाफा हो चुका है।
कृषि उपज की पूरी कीमतें नहीं मिलने और कर्ज माफी की मांग को लेकर किसान संगठनों ने एक से दस जून से शांतिपूर्वक आंदोलन करने का ऐलान किया है। आंदोलन की पूर्व घोषणा के चलते न सिर्फ पुलिस प्रशासन बल्कि सरकार भी चिंतित है। पिछले साल हुए आंदोलन में हुई हिंसक घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो, इसके लिए सरकारी स्तर पर तैयारियां की जा रही है। गांव-गांव अफसर बैठकें ले चुके हैं। इधर, किसानों ने शांतिपूर्वक कारोबार बंद यानी गांव से फल-सब्जी और दूध शहर में नहीं बेचने का ऐलान किया है, जिससे आंदोलन शुरू होने के पहले ही मंडी में सब्जी खरीदने के लिए ग्राहकों का तांता लग गया और सब्जी के दाम 25 फीसदी तक बढ़ चुके हैं।

पुलिस को मिले अतिरिक्त संसाधन, पुलिस अफसर और जवानों की छुट्टियाँ निरस्त

किसान आंदोलन से निपटने के लिए पुलिस प्रशासन को मुख्यालय की ओर से अतिरिक्त संसाधन मुहैया कराए गए हैं। जानकारी के अनुसार इंदौर जिले में किसी भी अप्रिय स्थिति से निपटने के लिए पुलिस को आठ वाहन, दो हजार हेलमेट, दो हजार चेस्ट गार्ड और इतने ही लट्ठ मिले हैं। सरकार ने 1 जून से दस जून तक अलर्ट जारी किया है. सभी पुलिस अफसर और जवानों की छुट्टियाँ निरस्त कर दी गई है.

लोग जुटे  सब्जी का स्टॉक करने में

आंदोलन दस जून तक चलाने की घोषणा की गई है, इसलिए गृहणियों ने एक दो दिन पहले से ही सब्जी और दूध का स्टॉक करना शुरू कर दिया है। शुरू के दो-चार दिन तक ज्यादा परेशानी नहीं आएगी, लेकिन आंदोलन लंबा चलता है तो परेशानी आ सकती है। सब्जी व्यापारी फारुख राईन के अनुसार, मंडी में पिछले दो दिन में सब्जी 25 फीसदी तक महंगी हो चुकी है। व्यापारियों का कहना है कि दूध के विकल्प के तौर पर दूध पावडर की डिमांड निकली है। हालांकि दूध अत्यावश्यक वस्तुओं में शामिल होने के चलते दुग्ध संघ ने भी स्टॉक कर आंदोलन अवधि के दौरान सप्लाय की रणनीति बना रखी है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com