गोद देने वाली संस्थाओं में अब तक 776 बच्चों की मौत, जाने कारण

0
15
adoptive

नई दिल्ली : महिला एवं बाल कल्याण मंत्रालय ने यह जानकारी दी है कि बच्चों को गोद देने वाली संस्थाओं में अभी तक अकेले उत्तर प्रदेश में 124 बच्चों समेत 776 बच्चों की मौत हो गई है। महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने लोकसभा में पूछे गए प्रश्न के जवाब में कहा आकड़ों के अनुसार उत्तर प्रदेश में अब तक सबसे ज्यादा बच्चों की मौत हुई है। इसके अलावा एक और प्रश्न के जवाब में स्मृति ईरानी ने कहा कि राष्ट्रीय रिकार्ड ब्यूरों के मुताबिक महिलाओं के लिए चलाई जा रही विभिन्न स्कीमों के चलते महिलाओं में आत्महत्या के आकड़े लगातार घट रहे है।

इसके आलावा बताया की बच्चों की मौत सभी राज्य के 19 संस्थाओं में हुई हैं। गोद देने के लिए कानूनी कार्रवाई के बाद मुक्त बच्चों को विशेष दत्तक ग्रहण एजेंसी को देखभाल के लिए सौंप दिया जाते हैं। इन्हें सरकार और गैर सरकारी संगठन संचालित करते हैं। ईरानी ने कहा बाल दत्तक जानकारी और नियम प्रक्रिया के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक 2016-17 से 2019 2020 के 8 जुलाई 2029 तक के आकड़ों के मुताबिक 776 बच्चों की मौत की सूचना है। इस संस्थाओं के खिलाफ अब तक कुल 10 शिकायतें भी मिली हैं।

जिसमें इन संस्थाओं द्वारा गोद लिया हुआ बच्चों के लिए नियम पालन न करने से संबधित थी। इसके आलावा स्मृति ईरानी ने बताया कि मंत्रालय द्वारा पिछले 5 सालों में महिलाओं के लिए किए गए कामों का परिणाम है कि महिलाओं की स्थितियों में लगातार सुधार हो रहा है। इसमें हिंसा की शिकार हुई महिलाओं की सहायता के लिए वन स्टॉप सेंटर, महिलाओं के लिए अस्थायी आश्रय गृह, पुलिस सहायता, मनोवैज्ञानिक सलाह भी निशुल्क उपलब्ध की जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here