Breaking News

महेश्वर में 6 महीने कैद रहा था रावण…

Posted on: 30 Sep 2017 07:21 by Ghamasan India
महेश्वर में 6 महीने कैद रहा था रावण…

महेश्वर : खरगोन जिले की प्राचीन नगरी ‘महेश्वर’ का इतिहास काफी समृद्धशाली रहा है। नगर में कई ऐसे स्थान है जिनका अपना ही महत्व है। ऐसा ही एक स्थान नगर के किला परिसर के पूर्वी भाग में स्थित है ‘रावणेश्वर शिवालय’।

यह अभी मात्र एक टीले के रूप में स्थित है। कंटीली झांड़ियों के बीच और आसपास बढ़ते अतिक्रमण के चलते जल्द ही यह स्थान केवल इतिहास के पन्नों में रह जाएगा।Related imageछह माह रावण रहा था कैद
नगर के चक्रवर्ती सम्राट सहस्रार्जुन एवं रावण का युद्घ हुआ था। इस युद्घ में रावण की हार हुई थी एवं सहस्रबाहु ने रावण को अपने अस्तबल में छह माह के लिए कैद कर लिया था। Related imageलंकापति रावण मदोन्मत हो, विश्व विजय का सपना संजोता हुआ जब माहिष्मती के सम्राट सहस्रार्जुन से टकराया तो सहस्रार्जुन ने उसे हराकर उसका विश्व विजय का स्वप्न भंग किया वहीं अपने घुड़साल में छह माह के लिए कैद भी कर लिया।
Related imageइसके पश्चात रावण के नाना एवं ऋषि पुलत्स्य के अनुनय-विनय पर सहस्रार्जुन ने रावण को कैद से मुक्त किया था। नगर के इतिहासकार बसंत महेश्वरकर ने बताया कि रावणेश्वर मंदिर को सहेजने के लिए कारगर कदम उठाए जाने चाहिए। जिससे लोगों को इस स्थान की महत्ता का पता चल सके। Related image

Save

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com