35 बार परीक्षाओं में फेल हुआ शख्स, नहीं मानी हार, बना IPS अफसर

0
47

हरियाणा: UPSC में 104वीं रैंक पाकर आईपीएस अधिकारी बनने जा रहे हरियाणा के विजय वर्द्धन की कहानी आज हम सबके के लिए प्रेरणा बन गई है. जिंदगी में छोटी-छोटी कठिनाइयों से डरकर हारने वालों के लिए उनकी कहानी से ज़रूर सीखना चाहिए. उन्होंने किस तरह कई कठिन हालातों में अभी अपना जज्बा नहीं छोड़ा और आज दुनिया उनकी सफलता की कहानी सुनाई जा रही है.

बता दें कि, विजय हरियाणा के सिरसा जिले के रहने वाले हैं. ख़बरों के मुताबिक, वह UPSC की परीक्षा से पहले करीब 35 बार अन्य परीक्षाओं में फेल हो चुकी थे. वहीं विजय साल 2019 से पहले चार बार सिविल सर्विसेज परीक्षा के भी दे चुके थे. लेकीन उन्हें किसी भी परीक्षा में सफलता नहीं मिली.

विजय की असफलता को देखते हुए उनके घर वालों ने उन्हें और परीक्षा न देने की सलाह दे चुकी थी. लेकिन पांचवें अटेम्प्ट में वो जब निकल गए तो ये सबके लिए चौंकाने वाली बात थी. उनके परिवार, दोस्त रिश्तेदारों से लेकर आज वो सैकड़ों लोगों के लिए एक उदाहरण बन चुके हैं.

विजय के मुताबिक, वह साल 2013 में इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशन में इंजीनियरिंग के बाद दिल्ली अपनी सिविल सर्विस की तैयारियां करने आए थे. विजय का कहना है कि “साल 2014 में मैंने आईएएस की प्रारंभिक परीक्षा के बाद मेन की परीक्षा दी. लेकिन फेल हो गए. इसके बाद 2015 में भी मेन में फेल हो गए.”

कई कोशिशों के बाद साल 2016 में उन्होंने अपनी किसी तरह मेहनत से मेन्स की परीक्षा पास कर ली, लेकिन फिर छ नंबर से इंटरव्यू के दौरान ही बाहर हो गए थे. साल 2017 में भी इंटरव्यू में बाहर हो गए. इसी तरह वो राजस्थान सिविल सर्विस, हरियाणा सिविल सर्विस, यूपी सिविल सर्विस, एसससी सीजीएल में भी कई बार फेल चुके हैं.

विजय का कहना है कि “मैं काफी कम अंतर से पास होने से रह जाता था. मेन पास होने के बाद कभी मेडिकल तो कभी डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन तक में मेरा सेलेक्शन रुका है. कई बार मुझे इस बेबसी पर हंसी भी आती थी कि ये मेरे साथ क्यों होता है. लेकिन आज मुझे ये मंत्र समझ में आ चुका है कि बार-बार प्रयास करने वाले कभी न कभी जरूर सफल होते हैं.” विजय के कई प्रयासों के बाद उन्हें आखिरकार सफलता मिल ही गई और उन्होंने UPSC की परीक्षा पास कर IPS अफसर का स्थान हासिल कर लिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here