दिल्ली की अदालत में पेश किए पिंजरे में बंद 13 तोते, हकीकत सुन हैरान रह जाएंगे आप

एक उजबेक नागरिक ने कुछ ऐसी हारकर की जिसकी वजह से उन तोतों को अदालत में पेश करना पढ़ गया।

0
39
parrot

दिल्ली की अदालत में हाल ही में एक ऐसा केस सामने आया है जिसको सुनने के बाद सब हैरान रह गए हैं। अदालत में कुछ ऐसा दृश्य देखने को मिला जिसमे पिंजरे में बंद 13 तोतों को पेश किया गया। अब आप सोच रहे होंगे की ये क्यों और किस लिए किया तो चलिए हम आपको बताते है की ये क्यों हुआ। दरअसल बुधवार को खुले आम घूम रहे तोतों को पिंजरे में बंद कर दिल्ली की अदालत में लाया गया।

वैसे तो तोतों ने कोई अपराध नहीं किया है लेकिन फिर भी उन्हें अदालत में पेश किया गया क्योंकि एक उजबेक नागरिक ने कुछ ऐसी हारकर की जिसकी वजह से उन तोतों को अदालत में पेश करना पढ़ गया। दरअसल, इस उजबेक का नाम रखमतजोनोव जिसको सीआईएसएफ ने इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पकड़ा था। तब वह जूतों के डिब्बों में रखकर तोतों की अपने देश में तस्करी करने की कोशिश कर रहा था।

उस आदमी के पास से कुछ डब्बे बरामद हुए जिसमे ये सारे तोते मौजूद थे। जानकारी के मुताबिक किसी केस से संबंध रखने वाली संपत्ति को अदालत में पेश करना जरूरी है। इसलिए इन तोतों को भी कोर्ट में पेश करना पड़ा। बता दें कि अदालत में पेश करने के बाद इन सभी तोतों को ओखला बर्ड सेंचुरी में देख रेख के लिए भेजा गया। कस्टम विभाग ने आरोपी के रखमतजोनोव जो की उजबेक नागरिक है उसके खिलाफ वाइल्ड लाइफ एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया है।

जानकारी के मुताबिक भारत से तोतों का निर्यात प्रतिबंधित है। यानी उन्हें बाहर ले जाने पर रोक है। वैसे तो बता दें कि उजबेक ने जमानत की की मांग राखी हैं। लेकिन कोर्ट ने उसे जमानत देने से मन कर दिया है और साथ ही 30 अक्टूबर तक के लिए हिरासत में ले लिया गया हैं। साथ ही सीआईएसएफ की पूछताछ के दौरान उजबेक ने बताया था कि ये तोते उसने पुरानी दिल्ली के एक विक्रेता से खरीदे थे। ये इसलिए क्योंकि उसके देश में तोतों की भारी मांग है। इसलिए वह इनकी तस्करी करने की कोशिश कर रहा था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here