Breaking News

100 करोड़ की संपत्ति वाली अनामिका को नहीं मिली दीक्षा की मंजूरी..

Posted on: 18 Sep 2017 10:23 by Ghamasan India
100 करोड़ की संपत्ति वाली अनामिका को नहीं मिली दीक्षा की मंजूरी..

नीमच। नीमच की एक दंपती इन दिनों चर्चा में बनी हुई है। दरअसल, इस दंपती ने अपनी तीन साल की बेटी और 100 करोड़ की सम्पत्ति का मोह छोड़कर संत बनने का फैसला ले लिया है।

परन्तु आपको जानकार ख़ुशी होगी कि सुमित और अनामिका की दीक्षा का जो विवाद आप हमारे बीच मैं चल रहा था आचार्य श्री रामलाल जी महारासा ने अनामिका को दीक्षा की अनुमति नहीं दी अब जो दीक्षा होगी वो सिर्फ सुमित की होगी

आपको बात दे कि 35 साल के सुमित राठौड़ ने लंदन के कॉलेज से आयात निर्यात में डिप्लोमा किया है, जबकि उनकी 34 साल की पत्नी अनामिका इंजीनियरिंग ग्रेजुएट हैं और हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड में काम कर चुकी हैं। दोनों शुद्ध मार्गी जैन आचार्य रामलाल महाराज से 23 सितंबर को दीक्षा लेने वाले थे। इस बीच एक सवाल गहराने लगा कि उनकी 3 साल की बेटी इभाया का क्या होगा?

हालांकि भारतीय जनता पार्टी के पूर्व जिलाअध्यक्ष और अनामिका के पिता अशोक चांडालिया ने कहा,’ मैं अपनी नातिन की जिम्मेदारी उठाऊंगा।’ उन्होंने अपनी बेटी और दामाद के फैसले के बारे में कहा कि उन्हें समझाया नहीं जा सकता है। उन्होंने आगे कहा,’ हमारे पास उन के धार्मिक तर्क का कोई जवाब नहीं है इसलिए हम इस फैसले को स्वीकार करते हैं। धर्म के बीच में कोई नहीं आ सकता है।’

सुमित के पिता राजेंद्र सिंह राठौर ने भी इस फैसले को स्वीकार कर लिया है। राठौर कई सीमेंट कंपनियों के मालिक है। उन्होंने कहा,’ हमें इसकी उम्मीद थी, पर इतनी जल्दी नहीं।’ सुमित और अनामिका का फैसला उनके प्रियजनों के लिए बिल्कुल आश्चर्यचकित करने वाला नहीं था क्योंकि उन्होंने मुनि बनने का इरादा इबाया के 8 महीने की होने पर ही बताया दिया था और तैयारी के रूप में दोनों अलग रहने लगे थे।

सुमित ने दीक्षा लेने का अंतिम फैसला 22 अगस्त को सूरत के समारोह में किया था। अचार्य ने इस बारे में अनामिका की अनुमति लेने के लिए कहा था। अनामिका इसके लिए तैयार भी हो गई और खुद भी दीक्षा लेने की इच्छा जताई। उनके परिवार वालों ने पहले दोनों को मनाने का प्रयास किया था, लेकिन वो नहीं मने थे।

 

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com