Breaking News

सुप्रीम कोर्ट ने सोशल मीडिया पोस्ट पर रद्द की धारा 66A, नहीं होगी जेल

Posted on: 30 Oct 2017 14:31 by Ghamasan India
सुप्रीम कोर्ट ने सोशल मीडिया पोस्ट पर रद्द की धारा 66A, नहीं होगी जेल

नई दिल्ली : सुप्रीम कोर्ट ने आज सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 66A पर ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए इसे अंसवैधानिक घोषित करते हुए रद कर दिया है।

जबकि सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि आईटी एक्ट की यह धारा संविधान के अनुच्छेद 19(1) A का उल्लंघन है, जोकि भारत के हर नागरिक को “भाषण और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार” देता है।

हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने कहा, धारा 66A अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार का हनन है। जबकि अदालत के आदेश के बाद अब फेसबुक, ट्विटर, लिंकड इन, व्हाट्स एप सरीखे सोशल मीडिया माध्यमों पर कोई भी पोस्ट डालने पर किसी की गिरफ्तारी नहीं होगी। इससे पहले धारा 66A के तहत पुलिस को ये अधिकार था कि वो इंटरनेट पर लिखी गई बात के आधार पर किसी को गिरफ्तार कर सकती थी।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com