सफलता की कहानी बोलेरो की रफतार से दौड़ रही हैं सुरेश की जिंदगी

0
11

इंदौर :सुरेश पटेल निवासी ग्राम बीसाखेड़ी पोस्ट मांगलिया जिला इंदौर पेशे से एक ड्रायवर हैं। उसकी मासिक आय 10 हजार रूपये थी। वह लगभग 10 साल से नौकरी कर रहा था। उसने सोचा क्यों न वाहन मालिक बना जायें। अत: उसने कलेक्ट्रेट जाकर पिछड़ावर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण कार्यालय में अधिकारियों से चर्चा की। अधिकारियों ने उसे बताया कि उसे बोलेरो गाड़ी के लिए लोन मिल सकता हैं।

उसने सारी औपचारिकता पूरी करके युनियन बैंक ऑफ इंडिया की कदवाली बुजुर्ग शाखा के माध्यम से 8 लाख 50 हजार रूपये ऋण लेकर बोलेरो गाड़ी खरीद ली। उसे 2 लाख रूपये अनुदान राशि का लाभ भी मिला हैं। अब उसकी आय बढकर 20 हजार रूपये महीना हो गई हैं। उसने अपनी गाड़ी टैक्सी के रूप में पुलिस विभाग में लगा दी हैं। उसे अब हर माह नियमित आय होने लगी हैं और वह बैंक की किस्त भी भर रहा हैं वहीं परिवार का भरण-पोषण भी कर रहा हैं। उसके परिवार में दादी, माता-पिता और पत्नी के अलावा दो बच्चें भी हैं।

श्री सुरेश पटेल ने चर्चा के दौरान बताया कि राज्य शासन की स्वरोजगार योजना के तहत सैकड़ों युवकों को जीने की नई राह मिली हैं। उन्हे अपने पैरों पर खड़ा होने को मौका मिला हैं। वे आत्मनिर्भर बनकर स्वाभिमान और सम्मान के साथ जिन्दगी जी रहे हैं। कोई बस मालिक, तो कोई बोलेरो मालिक और कोई फैक्ट्री मालिक बनता जा रहा हैं। राज्य शासन का युवकों के प्रति यह एक क्रांतिकारी कदम हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here