शरद पूर्णिमा आज, चांदनी रात में पकेगी खीर..

0
13

नई दिल्ली : पूरे भारत देश में आज ‘शरदपूर्णिमा’ महोत्सव मनाया जाएगा। आज शहर के कई मंदिरों में अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। कहीं भजन होंगे तो कहीं भगवान का अद्भुत शृंगार होगा।

शरद पूर्णिमा को रास पूर्णिमा भी कहा जाता है तथा कुछ क्षेत्रों में इस व्रत को कौमुदी व्रत भी कहा जाता है। शरद पूर्णिमा पर चंद्रमा व भगवान विष्णु का पूजन कर, व्रत कथा पढ़ी जाती है। धर्म ग्रंथों के अनुसार इसी दिन चन्द्र अपनी सोलह कलाओं से परिपूर्ण होते हैं। मान्यता है कि इस दिन भगवान श्री कृष्ण ने गोपियों के- साथ महारास रचा था।

शरद पूर्णिमा की रात चंद्रमा हमारी धरती के बहुत करीब होता है। इसलिए चंद्रमा के प्रकाश में मौजूद रासायनिक तत्व सीधे-सीधे धरती पर गिरते हैं। खाने-पीने की चीजें खुले आसमान के नीचे रखने से चंद्रमा की किरणे सीधे उन पर पड़ती है। इस दिन मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए मनाया जाता है।

इस दिन मनुष्य विधिपूर्वक स्नान करके उपवास रखे और जितेन्द्रिय भाव से रहे। इसके बाद घी मिश्रित खीर तैयार करे और बहुत-से पात्रों में डालकर उसे चन्द्रमा की चांदनी में रखें। जब एक प्रहर (6 घंटे) बीत जाएं, तब लक्ष्मीजी को सारी खीर अर्पण करें। तत्पश्चात भक्तिपूर्वक सात्विक ब्राह्मणों को इस प्रसाद रूपी खीर का भोजन कराएं और उनके साथ ही मांगलिक गीत गाकर तथा मंगलमय कार्य करते हुए रात्रि जागरण करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here