Breaking News

ये 8 कारणों हो सकता है तलाक

Posted on: 08 Sep 2017 06:26 by Ghamasan India
ये 8 कारणों हो सकता है तलाक

भारतीय परंपरा में शादी को जन्म-जन्मांतर का बंधन माना गया है. शादी के रिश्ते को मजबूत बनाने के लिए प्यार और विश्वास की बहुत जरूरत होती है लेकिन जब यह दोनों चीजें नहीं रहती तो रिश्ता टूटने की कगार पर पहुंच जाता है।

1. एक-दूसरे का ख्याल न रखना
शादी के शुरूआती दिनों में पति-पत्नी एक-दूसरे का काफी ख्याल रखते हैं। पत्नी अपने पति की दिनभर की खबर पूछती है और उसकी पसंद से खाना बनाती है लेकिन जब यह सब चीजें बेकार लगने लगें तो रिश्ते में दरार आने लगती है।

Related image2. लड़ाई-झगड़ा
किसी भी रिश्ते में लड़ाई-झगड़ा होना अच्छा नहीं होता। खासकर जब वह रिश्ता पति-पत्नी का हो। जब छोटी-छोटी बात पर झगड़ा होने लगे तो बात काफी आगे पहुंच जाती है और तलाक की नौबत आ जाती है।

3. बेवफाई
आजकल ज्यादातर रिश्तों के टूटने की वजह पार्टनर के साथ बेवफाई होती है। ऑफिस में काम करते वक्त पति हो या पत्नी किसी दूसरे की तरफ आकर्षित हो जाते हैं जिस वजह से तलाक होना संभव है।

Related image

4. अधिक उम्मीदें लगाना
शादी के बाद लड़की को अपने पति और ससुराल वालों से काफी उम्मीदें होती हैं लेकिन जब ये उम्मीदें पूरी नहीं होती तो रिश्ते में कड़वाहट आ जाती है। ऐसे में कभी भी किसी से जरूरत से ज्यादा उम्मीद न लगाएं।

5. मारपीट
जब लड़ाई-झगड़े अधिक बढ़ जाएं और पार्टनर मारपीट पर उतर जाता है जो एक-दो बार तो बर्दाश्त होता है लेकिन जब अक्सर मारपीट होेने लगे तो रिश्ता ज्यादा देर नहीं टिक पाता।

6. कम उम्र
कम उम्र में शादी करने से भी रिश्ते में मजबूती नहीं आती। ज्यादातर लव मैरिज में ही ऐसा देखने को मिलता है। लड़का-लड़की कम उम्र में प्रेम विवाह तो कर लेते हैं लेकिन शादी के बाद जब सिर पर जिम्मेदारियां पड़ती हैं तो रिश्ते में दूरियां आ जाती हैं और बात तलाक तक पहुंच जाती है।

7. जबरदस्ती शादी
कई बार लड़के अपने घरवालों की मर्जी और दबाव से शादी कर लेते हैं लेकिन शादी के बाद वह अपने पार्टनर के साथ सही संबंध नहीं बना पाते और प्यार की कमी होने की वजह से उनका रिश्ता खराब हो जाता है।

8. घरवालों की दखल
कई लड़कियों के घरवाले शादी के बाद उनकी जिदंगी में काफी दखल देते हैं जिसे लड़का पसंद नहीं करता और पति-पत्नी की आपस में तकरार होने लगती है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com