Breaking News

मोती की खेती से चमकी किस्मत, कर रहा लाखों की कमाई

Posted on: 12 Sep 2017 13:04 by Ghamasan India
मोती की खेती से चमकी किस्मत, कर रहा लाखों की कमाई

नई दिल्ली ‘ओस की बूंद सीप पर पड़े, तो मोती बन जाती है’ ते कहावत तो सबने सुनी ही होगी लेकिन ये कहावत ही नहीं है यदि काम मेहनत और लगन से किया जाए तो किस्मत चमक ही जाती है इस कहावत को उत्तर प्रदेश के शिवम् ने सच कर दिखाई है शिवम् ने मोती की खेती का सफल प्रयोग कर नई उम्मीदें जगा दी हैं।

शिवम् बनारस मंडल के चंदौली जिले में महुरा प्रकाशपुर गांव का रहने वाला है। यहाँ शिवम यादव ने मोती की खेती का काम शुरू किया है। पूरे विंध्यक्षेत्र में मोती उत्पादन का यह पहला कारोबारी प्रयास है। शिवम् की सफलता देख अब लोग उनसे प्रशिक्षण लेने आ रहे हैं।

शिवम ने 40 गुणे 35 मीटर का एक तालाब बनाया है। इसमें वे एक बार में दस हजार सीप डालते हैं। इन सीपों में 18 माह बाद सुंदर मोती बनकर तैयार हो जाते हैं। सीप को तालाब में डालना तो आसान है, लेकिन इससे पहले अपनाई जाने वाली प्रक्रिया थोड़ी कठिन है।

पूरी प्रक्रिया में प्रति सीप करीब 15 रुपए खर्च होते हैं। छह रुपए मैटल टिश्यु की कीमत, चार रुपए दवा व मजदूरी पर। सीप डालने पर तालाब में सरसों की खली, गेहूं की भूसी, गोबर घोल डालते हैं, तीन से पांच रुपए उसका खर्च। इस विधि से प्राप्त एक मोती की कीमत तीन सौ से 20 हजार रुपए तक है। कीमत मोती की गुणवत्ता से तय होती है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com