Breaking News

माता के 51 शक्तिपीठों में से एक है ये ज्वाला देवी धाम

Posted on: 22 Sep 2017 12:08 by Ghamasan India
माता के 51 शक्तिपीठों में से एक है ये ज्वाला देवी धाम

आज शारदीय नवरात्र का दूसरा दिन है। इस मंदिर में देवी के दर्शन नौ ज्योतियों के रूप में होते हैं। ये ज्योतियां स्वप्रभाव से ही धीरे तेज जलती रहती हैं। मुख्य ज्योति चांदी के आले में जलती रहती है। नौ ज्वालाओं में प्रमुख ज्वाला जो चांदी के आले के बीच स्थित है उसे महाकाली कहते हैं। अन्य आठ ज्वालाओं के रूप में मां अन्नपूर्णा, चण्डी, हिंगलाज, विध्यवासिनी, महालक्ष्मी, सरस्वती, अम्बिका एवं अंजी देवी ज्वाला देवी मंदिर में निवास करती हैं।

ज्वाला देवी धाम देवी का स्थान है। यहां भगवती सती की जीभ गिरी थी इसलिए यह स्थान 51 शक्तिपीठों में से एक है। मान्यता है कि भगवान शिव यहां उन्मत भैरव के रूप में स्थित है। यहां देवी के दर्शन ज्योति रूप में किए जाते हैं। पर्वत की चट्टान से नौ विभिन्न स्थानों पर बिना किसी ईंधन के ज्योति स्वत ही जलती रहती है। यही कारण है कि यहां देवी को ज्वाला देवी के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि सभी शक्तिपीठों में देवी मां हमेशा निवास करती हैं। शक्तिपीठ में माता की आराधना करने से माता जल्दी प्रसन्न होती है।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com