देवउठनी एकादशी : घर पर करें ये 5 उपाय

0
26

नई दिल्ली । 31 अक्टूबर को देवउठनी एकादशी का व्रत है। देवउठनी एकादशी के दिन ही भगवान विष्णु चार महीने तक सोने के बाद जागते हैं। इस दिन भगवान विष्णु के साथ माता तुलसी का विवाह होता है। आइए जानते हैं तुलसी विवाह से जुड़ी हुई कुछ बातें।

तुलसी विवाह के दौरान शाम को तुलसी के पौधे को घर के आंगन या छत के बीचों-बीच में रखना चाहिए।

Related imageजिस तरह से किसी कन्या के विवाह में चुनरी का महत्व होता है उसी तरह से तुलसी विवाह में लाल चुनरी का प्रयोग आवश्यक होता है। तुलसी विवाह में सुहाग की सारी सामग्री के साथ लाल चुनरी जरूर चढ़ाएं।

Image result for चुनरीतुलसी विवाह के दौरान भगवान शालिग्राम को माता तुलसी के पास रखें, लेकिन पूजा के दौरान उस पर चावल नहीं चढ़ाना चाहिए बल्कि तिल चढ़ाया जाता है।

Related imageजिस प्रकार किसी शादी समारोह में विवाह मंडप होता है उसी तरह से गन्ने का प्रयोग करके तुलसीजी और भगवान विष्णु के विवाह के लिए मंडप बनाएं।

Related imageतुलसी और शालिग्राम जी के विवाह के दौरान दूध में भीगी हल्दी के साथ दोनों की पूजा करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here