Breaking News

तो इन वजहों से संघ पर तीन बार लग चूका है बैन

Posted on: 07 Jun 2018 13:00 by Surbhi Bhawsar
तो इन वजहों से संघ पर तीन बार लग चूका है बैन

नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ आज दुनिया का सबसे बड़ा स्वयंसेवी संगठन बन गया है। आरएसएस की स्थापना 27 सितंबर 1925 को विजयदशमी के दिन हुई थी। अपने इस 93 साल के सफ़र में संघ ने कई उपलब्धियां हासिल की है, लेकिन ऐसा भी हुआ है जब देश में संघ को बैन करना पड़ा है। बता दे कि संघ को एक बार नहीं बल्कि तीन बार बैन किया जा चूका है।आज आपको बताने जा रहे है कि आखिर ऐसी कौनसी वजह रही कि देश में आरएसएस को बैन करना पड़ा। दरअसल, 1925 में स्थापना के बाद आजादी मिले एक ही साल हुआ था, जिसके बाद आरएसएस को बैन किया गया था। 30 जनवरी, 1948 को महात्मा गांधी की हत्या के बाद संघ पर प्रतिबन्ध लगा दिया गया था।उस समय संघ पर करीब 18 महीने तक प्रतिबंध लगा रहा। दरअसल, गांधी की हत्या को संघ से जोड़कर देखा गया, संघ के दूसरे सरसंघचालक गुरु गोलवलकर को बंदी बनाया गया। आरएसएस पर लगा ये बैन तत्कालीन गृहमंत्री सरदार बल्लभ भाई पटेल की शर्तें तत्कालीन संघ प्रमुख माधवराव सदाशिव गोलवलकर के मानने के बाद 11 जुलाई 1949 को हटा था।इसके बाद 1975 में इंदिरा गांधी द्वारा लगाए गए आपातकाल के दौरान आरएसएस को बैन कर दिया गया था। क्योकि संघ ने इंदिरा गांधी के फैसले का काफी विरोध किया था। उस समय में संघ पर 2 साल तक पाबंदी लगी थी और कई स्वयंसेवकों को जेल भेज दिया गया था। साल 1977 में जनता पार्टी की सत्ता आने के बाद संघ से ये प्रतिबंध हटा था।तीसरी बार साल 1992 में संघ पर प्रतिबंध लगा था। उस समय अयोध्या की बाबरी मस्जिद ढहाने में आरएसएस की अहम भूमिका थी। उस समय आरएसएस पर 6 महीने का प्रतिबंध लगा था।

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com