जेटली ने किया जीएसटी करो में फेरबदल, कम की गयी टैक्स की दरे

0
8

नई दिल्ली : जीएसटी काउंसिल के बठक के बाद केन्द्रीय वित्त मंत्री जेटली ने अपने संबोधन में कहा की व्यापरियो को रिटन भरने के लिये अब केवल एक ही फ़ार्म भरना होगा. कुछ शर्तो के साथ छुट दी जा सकती है और निर्यातको का 1 अप्रैल से ई वालेट बनेगा, जिससे उनका रिफंड का पैसा उनके ई वालेट  में आएगा.

उन्होंने कहा की निर्यातको का ज्यादा पैसा अटका हुआ है, जेटली ने कहा की 10 अक्टूबर से जुलाई के रिफंड मिलेगा, जबकि 18 अक्टूबर से अगस्त का रिफंड मिलेगा, जबकि ट्रेडर्स को 1 प्रतिशत और निर्यातको को 2 प्रतिशत टैक्स देना होगा, उन्होंने कहा की रेस्ट्रारेंट के टैक्स की सरकार समीक्षा कर रही है. जबकि रेस्ट्रारेंट वालो को 5 प्रतिशत टैक्स देना होगा.

उन्होंने कहा की रेस्ट्रारेंट के टैक्स की सरकार समीक्षा कर रही है, जेटली ने कहा की 1 करोड़ टर्नओवर वालो को 1 प्रतिशत टैक्स देना होगा, जबकि उत्पादक को 2 प्रतिशत टैक्स का भुगतान करना है. अब आयुर्वेदिक दवाईयों पर जीएसटी 12 प्रतिशत घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया गया है. जबकि  बिना ब्रांड नमकीन पर जीएसटी 12 प्रतिशत से घटाकर 5 प्रतिशत कर दिया गया है, जबकि स्टेशनरी के सामन पर जीएसटी 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत कर दिया गया है, जबकि अब डीजल इजन पम्प के पार्ट्स पर 18 प्रतिशत जीएसटी का भुगतान करना होगा.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here