Breaking News

जानें शिकागो भाषण में शून्य पर ही क्यों बोले विवेकानंद..

Posted on: 11 Sep 2017 08:49 by Ghamasan India
जानें शिकागो भाषण में शून्य पर ही क्यों बोले विवेकानंद..

नई दिल्ली: देश के युवाओं को आजाद भारत का सपना दिखाने वाले स्वामी विवेकानंद की आज जयंती है। उनका जन्म 12 जनवरी 1836 को हुआ था। विवेकानंद का जिक्र जब कभी भी आएगा उनके अमेरिका में दिए गए यादगार भाषण की चर्चा जरूर होगी। Related imageयह एक ऐसा भाषण था जिसने भारत की अतुल्य विरासत और ज्ञान का डंका बजा दिया था। अधिकांश लोग जानते हैं कि विवेकानंद ने यहां पर शून्य पर भाषण दिया था, लेकिन बहुत कम लोग ही ऐसे हैं जिन्हें यह मालूम है कि उन्होंने शून्य पर ही क्यों भाषण दिया। तो जानिए शिकागो में शून्य पर क्यों बोले थे विवेकानंद..
Image result for शिकागो भाषण स्वामी विवेकानंदशून्य पर ही क्यों बोले विवेकानंद..
यह एक दिलचस्प कहानी है। विवेकानंद साल 1893 में शिकागो में आयोजित विश्व धर्म महासभा में भारत की ओर से सनातन धर्म का प्रतिनिधित्व करने गए थे। जब वो वहां पहुंचे तो आयोजकों ने उनके नाम के आगे शून्य लिख दिया था।
Image result for शिकागो भाषण स्वामी विवेकानंदजानकारी के मुताबिक ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि कुछ लोग उन्हें परेशान करना चाहते थे। जानकारी के मुताबिक विवेकानंद जब भाषण देने के लिए खड़े हुए तब उनके सामने दो पेड़ों के बीच में एक सफेद कपड़ा बंधा हुआ पाया जिसके बीच में एक ब्लैक डॉट था। स्वामी विवेकानंद पूरी बात को अच्छे से भांप चुके थे। इसलिए उन्होंने यहां पर अपने भाषण की शुरूआत शून्य से ही की। Related image

Save

Latest News

Copyrights © Ghamasan.com