बगदाद:  दुनिया में कई ऐसे तानाशाह नेता हुए हैं, जिन्होंने दुनियाभर की तमाम बड़ी शक्तियों की नींद चुरा ली थी. ऐसे ही एक नेता का नाम था सद्दाम हुसैन जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति जॉर्ज बुश के शासन काल में 30 दिसंबर 2006 को फांसी पर लटका दिया था. इसके बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने स्वयं मिलिट्री हेलिकोप्टर से सद्दाम हुसैन के पार्थिव शरीर को बगदाद के लिए रवाना किया गया था. बगदाद में उनकी बॉडी को उनके गाँव अल-अवजा में दफनाया गया था. मगर हैरानी की बात यह है कि उनकी कब्र अब पूरी तरह से कंक्रीट में बदल चुकी है. उनके शव के अवशेष भी अब कब्र में नहीं बचे हैं. यह चौका देने वाली खबर न्यूज़ एजेंसी एएकपी ने अपनी एक रिपोर्ट में इस बात की जानकारी दी.

via
via

सद्दाम हुसैन वही शख्स थे जिन्होंने बगदाद पर 20 वर्षों तक राज किया. मगर आज उनका शव भी उनकी कब्र से नदारद है. आज सद्दाम हुसैन की मौत को 12 साल गुज़र गए हैं, मगर इतने सालों बाद उनके शव के बारे में सवाल उठ रहे हैं. न्यूज़ एजेंसी एएकपी ने सवाल उठाया कि आखिर सद्दाम हुसैन का शव कहाँ गया? बेहद संजीदा आरोप लगाते हुए अपने रिपोर्ट में सावल उठाए की उनका शरीर अल-अवजा में ही है या उसे खोद कर निकाल लिया गया है?  यदि निकाल लिया है तो उनके शव को कहाँ रखा गया है? फांसी के दौरान सद्दाम हुसैन की उम्र 69 वर्ष थी.

via

via

उनके शव को जहाँ दफनाया गया था वो स्थान उनके चाहने वालों के लिए किसी तीर्थ से कम नहीं था. स्कूल के बच्चों से ले कर उनके चाहने वालो तक हर कोई 28 अप्रैल को उनके जन्मदिन के अवसर पर उनके कब्र के पास इकठ्ठा होते हैं. वहीं अभी कुछ समय से यहाँ आने के लिए स्पेशल परमिशन की जरुरत पड़ती थी.

via
via

वहीँ सद्दाम के लिए काम कर चुके एक लड़ाके का मानना है कि उनकी निर्वासित बेटी हाला एक प्राइवेट जेट से अल-अवजा आईं थी और अपने पिता के शव को अपने साथ जॉर्डन ले कर चली गयी. इस मुद्दे पर हर व्यक्ति की अलग राय है, कुछ का कहना है कि ‘हाला कभी इराक नहीं आई. मगर शव को किसी गुप्त जगह पर ले जाया गया है. मगर किसी को यह नहीं मालुम कि शव को कौन, कहाँ और किस लिए ले जाया गया. वहीं कुछ बगदाद निवासी लोगों का मानना है कि सद्दाम हुसैन अभी भी जिंदा है.