नई दिल्ली : अमेरिकी संसद में सांसदों के सामने जकरबर्ग को ब्रिटिश डाटा कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका के फेसबुक से गलत तरीके से यूजर्स की निजी जानकारी हासिल करने के आरोप में तलब किया गया। अमेरिकी कांग्रेस के सामने पेश होने से पहले जकरबर्ग ने सिनेटरों से मुलाकात की. साथ ही डेटा लीक मामले में माफीनामा भी जारी किया था।

अमेरिकी कांग्रेस ने फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग से पूछताछ की हालाँकि यह पहली बार है जब फेसबुक के सीईओ अमेरिकी कांग्रेस में कड़े सवालों का सामना करने पहुंचे थे। सांसदों के सामने जकरबर्ग ने सभी सवाल के जवाब दिए और उन्होंने फेसबुक यूजर्स की सुरक्षा बढ़ाने पर जोर दिया है।

साउथ डकोटा से रिपब्लिकन पार्टी के सीनेटर जॉन थुने ने जकरबर्ग से पूछा कि क्‍या वे यह वादा कर सकते हैं कि फेसबुक के प्‍लेटफार्म को राजनीतिक महत्‍वाकांक्षा के लिए उपयोग नहीं होगा। जबकि इस पर जकरबर्ग ने कहा कि किसी भी प्रकार के नुकसान पहुंचाने वाली सामग्री के लिए फेसबुक मददगार नहीं बनेगा। उन्‍होंने कहा कि कंपनी में कोई भी व्‍यक्ति राजनीतिक विचारधारा से प्रेरित होकर कोई निणर्य नहीं लेगा। जकरबर्ग ने कहा कि हमने लोगों के प्राइवेट डेटा को सुरक्षित रखने के लिए ज्यादा कुछ नहीं किया. हम उसके लिए माफी मांगते हैं, लेकिन अब हम डेटा को सुरक्षित करने के लिए हर कदम उठा रहे हैं. इसके लिए कदम उठाए गए हैं. फेसबुक में अभी डेटा सुरक्षित करने में 15 हजार लोग काम कर रहे हैं, 2018 के अंत तक इसे बढ़ाकर 20 हजार किए जाने का लक्ष्य रखा गया है. फेसबुक सीईओ ने माना कि कंपनी से रूसी दखलअंदाजी को पकड़ने और उसे रोकने में देर हुई है।