• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   दिल्ली: तिलक नगर सीट पर आम आदमी पार्टी उम्मीदवार की जीत।
    •   सीलमपुर से बीजेपी की उम्मीदवार शकीला बेगम जीतीं
    •    हार के बाद केजरीवाल के घर बैठक,सिसोदिया और गोपाल राय भी मौजूद,,EVM पर हो रही है चर्चा
    •   अगर बीजेपी जीतती है तो सीएम अरविंद केजरीवाल को अपना इस्तीफा देने के लिए तैयार रहना चाहिए: मनोज तिवारी,
    •   दिल्ली में दो सीटों पर नतीजे आए, खानपुर और मदनगीर में बीजेपी को जीत।
    •   उत्तरी दिल्ली MCD रुझान- भाजपा- 71,कांग्रेस-14,आप-16,अन्य-2
    •   उत्तरी दिल्ली में बीजेपी 72 सीट से आगे, आप 18, कांग्रेस 13
    •   दिल्ली नगरपालिका चुनाव में बीजेपी 165 सीटों पर आगे
    •   दक्षिणी दिल्ली के टैगोर गार्डन से बीजेपी प्रत्याशी आगे।
    •   पूर्वी दिल्ली की 63 सीटों में से 41 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   उत्तरी दिल्ली: 104 सीटों में 70 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   पूर्वी दिल्ली की झिलमिल सीट से आम आदमी पार्टी की निशा शर्मा आगे।
    •   एमसीडी की 270 सीटों के रुझान सामने आए, तीनों निगमों में बीजेपी को बहुमत।
    •   पूर्वी दिल्ली की सभी सीटों के रुझान सामने आए, बीजेपी को बहुमत। कांग्रेस-आप 12-12 सीटों पर आगे।
    •   2012 के निगम चुनाव में बीजेपी को मिली थी 142 सीटें।
    •   पूर्वी दिल्ली के मुस्तफाबाद से बीजेपी प्रत्याशी सबरा मलिका आगे।
    •   दिल्ली: जामा मस्जिद इलाके में बीजेपी प्रत्याशी आशा आगे चल रही हैं।
    •   दिल्ली: तीनों निगमों की 150 सीटों पर बीजेपी को मिली बढ़त।
    •   MCD: 270 में से 197 सीटों के रुझान: 134 पर बीजेपी, 40 पर कांग्रेस.
    •   दिल्ली: शुरुआती रुझानों में बीजेपी नंबर एक, कांग्रेस 2 और AAP तीसरे नंबर की पार्टी।

FILM REVIEW: मां के संघर्ष की दिलचस्प कहानी है मातृ

img
FILM REVIEW: मां के संघर्ष की दिलचस्प कहानी है मातृ Ghamansan Editor

अपने इस कमबैक को खास बनाने के लिए रवीना ने काफी अच्छा सब्जेक्ट चुना है।

फिल्म- मातृ
अवधि – एक घंटा 52 मिनट
निर्देशक – अश्‍तर सैय्यद
कास्ट- रवीना टंडन, मधुर मित्तल, दिव्‍या जगदाले, अनुराग अरोड़ा, अलिशा खान
रेटिंग- 3/5
मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री रवीना टंडन ने बहुत समय बाद बड़े परदे पर वापसी की है। उन्होंने एक ऐसी कहानी चुनी है जो दर्शकों के दिल मे उतर जाए।अपने इस कमबैक को खास बनाने के लिए रवीना ने काफी अच्छा सब्जेक्ट चुना है। फ़िल्म में जान डालने के लिए उन्होंने खूब मेहनत भी की, जो पर्दे पर साफ दिखाई देती है।

कहानी: यह कहानी देश की राजधानी दिल्ली में रहने वाली स्कूल टीचर विद्या चौहान (रवीना टंडन) की है। जो अपनी बेटी टीया (अलिशा खान) के साथ काफी खुश है। उसका पति रवि (रुषाद राणा) उसे नही चाहता है फिर भी विद्या आम भारतीय नारी की तरह चुपचाप उसके साथ अपनी ज़िंदगी बिता रही है। इस शहर में उसकी केवल एक ही अच्छी दोस्त और इकलौता सहारा है रितु (दिव्या जगदाले)। इन सभी की ज़िंदगी में भूचाल तब आ जाता है, जिसके कारण दिल्ली शहर कई सालों से बदनाम रहा है। ट्रैफिक से बचने के लिए देर रात विद्या एक गलत टर्न लेती है और मुसीबत में फंस जाती है, क्योंकि कुछ वहशी लोग सुनसान रास्ते पर विद्या और उसकी बेटी टीया का गैंगरेप करते हैं। जिसमें टीया की मौत हो जाती है पर विद्या बच जाती है। गैंगरेप करनेवाले कोई और नही बल्कि राज्य के मुख्यमंत्री का बिगड़ैल बेटा अपूर्व मलिक (मधुर मित्तल) और उसके दोस्त है। पुलिस जहां केस को रफा-दफा करने की कोशिश करती है वही विद्या का पति मुसीबत की घड़ी में उसका साथ छोड़ देता है। ऐसे में विद्या बिना कानून की मदद के किस तरह इन सबसे अपना बदला लेती है यही फिल्म ‘मातृ’ की कहानी है।

निर्देशन: डायरेक्टर अश्तर सैय्यद का निर्देशन बढ़िया है उनका कसा हुआ निर्देशन दृश्यों को असरदार बनाता है और उसमें चार चांद लगाता है।

कमजोर कड़ी:फिल्म की कमजोर कड़ी इसकी कहानी है जो नई तो नहीं है, बस ट्रीटमेंट नया रखा गया है, जिसकी वजह से आपको पता रहता है कि आखिरकार कहानी को अंजाम क्या मिलेगा। इसको और भी ज्यादा थ्रिलिंग और क्रिस्प बनाया जा सकता था, जिसकी वजह से फिल्म दर्शकों को बांधें रखने में ज्यादा सफल होती है।

देखे य नहीं: लंबे समय के बाद स्क्रीन पर लौटी रवीना ने एक मां के किरदार को बखूबी निभाया है। फिल्म में उनकी मौजूदगी सबसे बड़ा यूएसपी है। फिल्म का संगीत और खास तौर पर बैकग्राउंड स्कोर काफी कमाल का है। फिल्म से दर्शकों का ध्यान एक अहम और गंभीर मुद्दे की तरफ खींचने की कोशिश की गई है पर लेकिन कमजोर स्क्रीनप्ले का असर भी फिल्म पर साफ दिखाई देता हैं। ऐसे में जागरूकता फैलाती इस फिल्म को दर्शकों का साथ जरूर मिलना चाहिए।

Posts Carousel