• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   अभिनेता विनोद खन्ना का निधन
    •   भटके नौजवानों की होगी वापसी
    •    MCD में हार: AAP के पंजाब प्रभारी संजय सिंह ने दिया इस्तीफा
    •   ग्रेटर नोएडा: प्राइवेट युनिवर्सिटी की 21 वर्षीय छात्रा का अपहरण कर गाड़ी में किया गया रेप, FIR दर्ज
    •   सीरिया: दमिश्क एयरपोर्ट पर बड़ा धमाका होने की खबर।
    •   दिल्ली: अरविंद केजरीवाल ने आज सुबह 11.15 बजे CM आवास पर हार के लिए सभी विधायकों की बैठक बुलाई।
    •   दिल्ली: तिलक नगर सीट पर आम आदमी पार्टी उम्मीदवार की जीत।
    •   सीलमपुर से बीजेपी की उम्मीदवार शकीला बेगम जीतीं
    •    हार के बाद केजरीवाल के घर बैठक,सिसोदिया और गोपाल राय भी मौजूद,,EVM पर हो रही है चर्चा
    •   अगर बीजेपी जीतती है तो सीएम अरविंद केजरीवाल को अपना इस्तीफा देने के लिए तैयार रहना चाहिए: मनोज तिवारी,
    •   दिल्ली में दो सीटों पर नतीजे आए, खानपुर और मदनगीर में बीजेपी को जीत।
    •   उत्तरी दिल्ली MCD रुझान- भाजपा- 71,कांग्रेस-14,आप-16,अन्य-2
    •   उत्तरी दिल्ली में बीजेपी 72 सीट से आगे, आप 18, कांग्रेस 13
    •   दिल्ली नगरपालिका चुनाव में बीजेपी 165 सीटों पर आगे
    •   दक्षिणी दिल्ली के टैगोर गार्डन से बीजेपी प्रत्याशी आगे।
    •   पूर्वी दिल्ली की 63 सीटों में से 41 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   उत्तरी दिल्ली: 104 सीटों में 70 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   पूर्वी दिल्ली की झिलमिल सीट से आम आदमी पार्टी की निशा शर्मा आगे।
    •   एमसीडी की 270 सीटों के रुझान सामने आए, तीनों निगमों में बीजेपी को बहुमत।
    •   पूर्वी दिल्ली की सभी सीटों के रुझान सामने आए, बीजेपी को बहुमत। कांग्रेस-आप 12-12 सीटों पर आगे।

ऐसा मंदिर जहां की जाती है मछली की अस्थियों की पूजा

img
ऐसा मंदिर जहां की जाती है मछली की अस्थियों की पूजा Ghamansan Editor

जहां पर मछलियों के अस्थियों की पूजा की जाती है।

नई दिल्ली। वैसे तो हम सभी ने यही सुना और समझा है कि हर मंदिर में भगवान को किसी ना किसी रूप में पूजा जाता है पर गुजरात में ऐसा मंदिर भी है जहां पर मछलियों के अस्थियों की पूजा की जाती है। यह मंदिर गुजरात में वलसाड तहसील के मगोद डुंगरी गांव में स्थित है।

विष्णु पुराण के अनुसार भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार भी लिया था। इस मंदिर में व्हेल मछली की अस्थियों की पूजा की जाती है। इस मंदिर को मत्स्य माताजी के नाम से जाना जाता है। एक  कथा के अनुसार करीब 300 वर्ष पहले डुंगरी गांव में रहने वाले प्रभु टंडेल नामक व्यक्ति को स्वप्न आया।

स्वपन्न में टंडेल ने देखा कि समुद्र किनारे एक व्हेल मछली मृत पड़ी है। जब उसने सुबह जाकर देखा तो वास्तव में एक मृत व्हेल मछली समुद्र किनारे पड़ी हुई थी। यह एक विशाल आकार की मछली थी, जिसे देखकर ग्रामीण चौंक उठे थे। तब गांव के लोगों ने डुंगरी गांव 'मत्स्य माता का मंदिर' बनवाया।

Posts Carousel