• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   दिल्ली: तिलक नगर सीट पर आम आदमी पार्टी उम्मीदवार की जीत।
    •   सीलमपुर से बीजेपी की उम्मीदवार शकीला बेगम जीतीं
    •    हार के बाद केजरीवाल के घर बैठक,सिसोदिया और गोपाल राय भी मौजूद,,EVM पर हो रही है चर्चा
    •   अगर बीजेपी जीतती है तो सीएम अरविंद केजरीवाल को अपना इस्तीफा देने के लिए तैयार रहना चाहिए: मनोज तिवारी,
    •   दिल्ली में दो सीटों पर नतीजे आए, खानपुर और मदनगीर में बीजेपी को जीत।
    •   उत्तरी दिल्ली MCD रुझान- भाजपा- 71,कांग्रेस-14,आप-16,अन्य-2
    •   उत्तरी दिल्ली में बीजेपी 72 सीट से आगे, आप 18, कांग्रेस 13
    •   दिल्ली नगरपालिका चुनाव में बीजेपी 165 सीटों पर आगे
    •   दक्षिणी दिल्ली के टैगोर गार्डन से बीजेपी प्रत्याशी आगे।
    •   पूर्वी दिल्ली की 63 सीटों में से 41 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   उत्तरी दिल्ली: 104 सीटों में 70 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   पूर्वी दिल्ली की झिलमिल सीट से आम आदमी पार्टी की निशा शर्मा आगे।
    •   एमसीडी की 270 सीटों के रुझान सामने आए, तीनों निगमों में बीजेपी को बहुमत।
    •   पूर्वी दिल्ली की सभी सीटों के रुझान सामने आए, बीजेपी को बहुमत। कांग्रेस-आप 12-12 सीटों पर आगे।
    •   2012 के निगम चुनाव में बीजेपी को मिली थी 142 सीटें।
    •   पूर्वी दिल्ली के मुस्तफाबाद से बीजेपी प्रत्याशी सबरा मलिका आगे।
    •   दिल्ली: जामा मस्जिद इलाके में बीजेपी प्रत्याशी आशा आगे चल रही हैं।
    •   दिल्ली: तीनों निगमों की 150 सीटों पर बीजेपी को मिली बढ़त।
    •   MCD: 270 में से 197 सीटों के रुझान: 134 पर बीजेपी, 40 पर कांग्रेस.
    •   दिल्ली: शुरुआती रुझानों में बीजेपी नंबर एक, कांग्रेस 2 और AAP तीसरे नंबर की पार्टी।

प्रदेश में हर 5 घंटे में कर्ज से दबा 1 किसान कर रहा है आत्महत्या: रवि सक्सेना

img
प्रदेश में हर 5 घंटे में कर्ज से दबा 1 किसान कर रहा है आत्महत्या: रवि सक्सेना Ghamansan Editor

वर्ष 2015 में 4595 खेतीहर किसानों ने आत्महत्या की,

भोपाल: एक बार फिर मध्यप्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता रवि सक्सेना ने किसान आत्महत्या मामला उठाते हुए भाजपा सरकार पर वार किया।   

इतना ही नही उन्होंने कहा है कि प्रदेश की किसान हितैषी होने का दावा करने वाली भाजपा सरकार के राज में पिछले 1 साल (फरवरी 16 से लेकर फरवरी 17) में मप्र में 1982 खेतीहर किसानों ने आत्महत्या की है और सरकार इनकी आत्महत्याओं को घरेलू हिंसा, आपसी विवाद का कारण बताने का प्रयास कर रही है। जबकि नेशनल क्राईम ब्यूरो के अनुसार वर्ष 2015 में 4595 खेतीहर किसानों ने आत्महत्या की, जिसमें घरेलू कारणों की बजह से 40.1 प्रतिशत (1843) और बीमारी की बजह से 19 फीसदी (872) ने मौत को गले लगाया। कर्ज से जुडी आत्महत्याओं को वित्तीय और गैर वित्तीय संस्थानों ने मात्र 3.4 फीसदी (155) और 2.2 प्रतिशत (100) बताया है। इससे स्पष्ट है कि प्रदेश में प्रति पांच घंटे में एक किसान आत्महत्या कर रहा है और प्रदेश की पुलिस इन आत्महत्याओं की बजह कर्ज के बजाय अन्य कारणों से आत्महत्या बताकर मामले पर बेशर्मी से पर्दा डालने की कोशिश कर रही है जो कि सरकार द्वारा किया जा रहा अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण एवं शर्मनाक कृत्य है।   

श्री सक्सेना ने कहा है आरटीआई से मिली जानकारी के अनुसार केवल अलीराजपुर में ही वर्ष 2014-16 के बीच 546 किसानों ने आत्महत्याऐं की है, जिन्हें सरकार ने घरेलू हिंसा, बीमारी से हुई मौतों का रंग देंने का प्रयास किया है।

श्री सक्सेना ने कहा कि प्रदेश का किसान 72000 करोड़ रूपयों के कर्जबोझ से दबा हुआ है, किसानो  की फसलें महंगे खाद-बीज, बिजली, पानी के कारण लगातार घाटे का सौंदा साबित हो रही हैं। राज्य सरकार ‘‘जीरो प्रतिशत ब्याज’’ देने का ढोग कर रही है जबकि किसान हो लगभग 15-16 प्रतिशत तक ब्याज भरना पड़ रहा है, इस कारण किसान कर्ज के बोझ से आत्महत्या करने के लिए विवश हो रहा है।

श्री सक्सेना ने राज्य सरकार से मांग की है कि जिस तरह उत्तर प्रदेश के किसानों का कर्ज माफ किया गया है, उसी तरह मध्यप्रदेश के कर्ज से दबे हुए किसानों का कर्जा भी माफ किया जाये।


Posts Carousel