• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   लखनऊ के बापू भवन में लगी आग
    •   मुरली विजय को गाली देकर धोखेबाज कहते दिखाई दिए ऑस्‍ट्रेलियाई कप्‍तान स्‍टीव स्मिथ, वीडियो वायरल
    •   एक सीरीज, दो कप्तान और जीतेगा हिंदुस्तान
    •   धर्मशाला टेस्ट Live: चौथे दिन भारत उतरेगा टेस्ट सीरीज पर कब्जा जमाने, जीत से 87 रन दूर
    •   चार दिन बाद शादी के बंधन में बंधेंगी ओलंपियन पहलवान साक्षी ​मलिक
    •   रेलमंत्री : रेलवे को पूरी तरह डिजिटल बनाने से होगा 40 हजार करोड़ का फायदा
    •   जीएसटी संबंधी चार सहायक बिल पेश, स्टेट बिल के पास होते ही आकार ले लेगा जीएसटी
    •   परीक्षा में नकल रोकने के लिए यूपी सरकार ने जारी की हेल्पलाइन
    •   तो क्या जिन्ना हाउस को जमींदोज कर दिया जाएगा?
    •   सुप्रीम कोर्ट ने पूछा,जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक कौन है?
    •   J&K के बडगाम में एनकाउंटर जारी, 2 आतंकियों के छिपे होने की आशंका
    •   UP: छात्र मनीष खारी की मौत मामले में पाचं नाइजिरियाई छात्रों पर FIR
    •   सीपीईसी की वजह से कश्मीर पर अपना रुख नहीं बदलेगा चीन
    •   कपिल शर्मा की बढ़ी मुश्किलें- गलत बर्ताव के खिलाफ एयर इंडिया उठा सकता है उनपर बड़ा कदम!
    •   देश में इस बार पड़ेगी झुलसा देने वाली गर्मी, रेकॉर्ड तोड़ेगा तापमान
    •   मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड ने SC से कहा- तीन तलाक को अवैध ठहराना कुरान दोबारा लिखने जैसा
    •   बिहार के मधेपुरा से सांसद पप्पू यादव गिरफ्तारी के बाद आज होंगे कोर्ट में पेश, बोले- मुझे फंसाया जा रहा है
    •   चौथे दिन का खेल शुरू, लगातार सातवीं सीरीज जीत से 87 रन दूर है टीम इंडि
    •   ट्रम्प ने मोदी को फोन कर चुनावी जीत पर दी बधाई, दो महीने में तीसरी बार हुई बात
    •   उत्तर प्रदेश: मथुरा में बोर्ड परीक्षा कैंसल।

योगी आदित्यनाथ बने यूपी के सीएम, 26 साल की उम्र में सांसद बने थे योगी

img
योगी आदित्यनाथ बने यूपी के सीएम, 26 साल की उम्र में सांसद बने थे योगी Ghamansan Editor

यूपी के CM पर सस्पेंस बरकरार, BJP विधायक दल की बैठक शुरु

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के सीएम के नाम पर अब कुछ देर बाद फैसला होने वाला है. शाम 5 बजे लखनऊ में बीजेपी विधायक दल की बैठक शुरू होने वाली है. बैठक में शामिल होने के लिए यूपी बीजेपी के अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य और गोरखपुर से सांसद योगी आदित्यनाथ लखनऊ पहुंच चुके हैं. तो चलिए डालते हैं योगी आदित्यनाथ के प्रोफाइल पर एक नजर:

योगी आदित्यनाथ (जन्म 5 जून 1972) गोरखपुर के प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के महन्त हैं। वे 2014 लोक सभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के टिकट पर गोरखपुर से लोक सभा सांसद चुने गए। वे 1998 से लगातार इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं।[1] आदित्यनाथ गोरखनाथ मंदिर के पूर्व महन्त अवैद्यनाथ के उत्तराधिकारी हैं। वह हिन्दू युवा वाहिनी के संस्थापक भी हैं, जो कि हिन्दू युवाओं का सामाजिक, सांस्कृतिक और राष्ट्रवादी समूह है।
http://img.patrika.com/upload/images/2016/07/18/Modi-and-Yogi-1468828412.jpg
राजनैतिक जीवन
योगी आदित्यनाथ का वास्तविक नाम अजय सिंह है। आदित्यनाथ बारहवीं लोक सभा (1998-99) के सबसे युवा सांसद थे। उस समय उनकी उम्र महज 26 वर्ष थी। उन्होंने गढ़वाल विश्विद्यालय से गणित से बी.एस.सी किया है। उन्होंने धर्मांतरण (जैसे निम्न वर्ग हिंदुओं को ईसाई बनाना) गौ वध रोकने की दिशा में सार्थक कार्य किये हैं। वे गोरखपुर से लगातार 5 बार से सांसद हैं।
http://media2.intoday.in/aajtak/images/stories/052016/yogi_650_051516081512.jpg
भारतीय जनता पार्टी से सम्बन्ध
आदित्यनाथ के भारतीय जनता पार्टी के साथ रिश्ता एक दशक से पुराना है। वह पूर्वी उत्तर प्रदेश में अच्छा खासा प्रभाव रखते हैं। इससे पहले उनके पूर्वाधिकारी तथा गोरखनाथ मठ के पूर्व महन्त, महन्त अवैद्यनाथ भी भारतीय जनता पार्टी से 1991 तथा 1996 का लोकसभा चुनाव जीत चुके हैं।
https://www.hindujagruti.org/wp-content/uploads/2015/08/Yogy-Adityanath-bhet-by-Puya-Jadhavkaka_C.jpg
लोकसभा चुनावों में प्रदर्शन
योगी आदित्यनाथ सबसे पहले 1998 में गोरखपुर से चुनाव भाजपा प्रत्याशी के तौर पर लड़े और तब उन्होंने बहुत ही कम अंतर से जीत दर्ज की। लेकिन उसके बाद हर चुनाव में उनका जीत का अंतर बढ़ता गया और वे 1999, 2004, 2009 व 2014 में सांसद चुने गए। योगी जी ने अप्रैल २००२ मे हिन्दु युवा वाहिनी बनायी जिसके कार्यकर्ता पूरे देश मे हिन्दु धर्म विरोधी कार्यो को रोकने का काम कर रहे है।

विवाद
7 सितम्बर 2008 को सांसद योगी आदित्यनाथ आजमगढ़ में जानलेवा हिंसक हमला हुआ था। इस हमले में वे बाल-बाल बच गये। यह हमला इतना बड़ा था की सौ से अधिक वाहनों को हमलावरों ने घेर लिया और लोगों को लहुलुहान कर दिया।
http://spiderimg.amarujala.com/image/990x460/2014/09/15/yogi-adityanath-5415e22ed0589_exlst.jpg
आदित्यनाथ गोरखपुर दंगों के दौरान तब गिरफ्तार किया गया जब मुस्लिम त्यौहार मोहर्रम के दौरान फायरिंग में एक हिन्दू युवा की जान चली गयी। जिलाधिकारी ने बताया की वह बुरी तरह जख्मी है। तब अधिकारियों ने योगी को उस जगह जाने से मना कर दिया परन्तु आदित्यनाथ उस जगह पर जाने को अड़ गए। तब उन्होंने शहर में लगे कर्फ्यू को हटाने की मांग की। अगले दिन उन्होंने शहर के मध्य श्रद्धान्जली सभा का आयोजन करने की घोषणा की लेकिन जिलाधिकारी ने इसकी अनुमति देने से इनकार कर दिया।
http://www.yogiadityanath.in/PhotoGallery/25001_27022017113343.jpg
आदित्यनाथ ने भी इसकी चिंता नहीं की और हजारों समर्थकों के साथ अपनी गिरफ़्तारी दी। आदित्यनाथ को सीआरपीसी की धारा 151A, 146, 147, 279, 506 के तहत जेल भेज दिया गया।उनपर कार्यवाही का असर हुआ कि मुंबई-गोरखपुर गोदान एक्सप्रेस के कुछ डिब्बे फूंक दिए गए, जिसका आरोप उनके संगठन हिन्दू युवा वाहिनी पर लगा।

यह दंगे पूर्वी उत्तर प्रदेश के छह जिलों और तीन मंडलों में भी फ़ैल गए। उनकी गिरफ़्तारी के अगले दिन जिलाधिकारी हरि ओम और पुलिस प्रमुख राजा श्रीवास्तव का तबादला हो गया। कथित रूप से आदित्यनाथ के ही दबाव के कारण मुलायम सिंह यादव की उत्तर प्रदेश सरकार को यह कार्यवाही करनी पड़ी।
http://www.yogiadityanath.in/PhotoGallery/11563_10022017125824.jpg
व्यक्तित्व के विभिन्न आयाम
भगवामय बेदाग जीवन- योगी आदित्यनाथ जी महाराज एक खुली किताब हैं जिसे कोई भी कभी भी पढ़ सकता है। उनका जीवन एक योगी का जीवन है, सन्त का जीवन है। पीड़ित, गरीब, असहाय के प्रति करुणा, किसी के भी प्रति अन्याय एवं भ्रष्टाचार के विरुद्ध तनकर खड़ा हो जाने का निर्भीक मन, विचारधारा एवं सिद्धान्त के प्रति अटल, लाभ-हानि, मान-सम्मान की चिन्ता किये बगैर साहस के साथ किसी भी सीमा तक जाकर धर्म एवं संस्कृति की रक्षा का प्रयास उनकी पहचान है।
http://img.patrika.com/upload/images/2016/07/18/yogi-578cd7837cc7f_l.jpg
पीड़ित मानवता को समर्पित जीवन - वैभवपूर्ण ऐश्वर्य का त्यागकर कंटकाकीर्ण पगडंडियों का मार्ग उन्होंने स्वीकार किया है। उनके जीवन का उद्देश्य है इतना ही नही विकास के पथ पर अनवरत गतिशील - योगी आदित्यनाथ जी महाराज के व्यक्तित्व में सन्त और जननेता के गुणों का अद्भुत समन्वय है। ऐसा व्यक्तित्व विरला ही होता है। यही कारण है कि एक तरफ जहॉ वे धर्म-संस्कृति के रक्षक के रूप में दिखते हैं तो दूसरी तरफ वे जनसमस्याओं के समाधान हेतु अनवरत संघर्ष करते रहते है।