• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   लखनऊ के बापू भवन में लगी आग
    •   मुरली विजय को गाली देकर धोखेबाज कहते दिखाई दिए ऑस्‍ट्रेलियाई कप्‍तान स्‍टीव स्मिथ, वीडियो वायरल
    •   एक सीरीज, दो कप्तान और जीतेगा हिंदुस्तान
    •   धर्मशाला टेस्ट Live: चौथे दिन भारत उतरेगा टेस्ट सीरीज पर कब्जा जमाने, जीत से 87 रन दूर
    •   चार दिन बाद शादी के बंधन में बंधेंगी ओलंपियन पहलवान साक्षी ​मलिक
    •   रेलमंत्री : रेलवे को पूरी तरह डिजिटल बनाने से होगा 40 हजार करोड़ का फायदा
    •   जीएसटी संबंधी चार सहायक बिल पेश, स्टेट बिल के पास होते ही आकार ले लेगा जीएसटी
    •   परीक्षा में नकल रोकने के लिए यूपी सरकार ने जारी की हेल्पलाइन
    •   तो क्या जिन्ना हाउस को जमींदोज कर दिया जाएगा?
    •   सुप्रीम कोर्ट ने पूछा,जम्मू-कश्मीर में अल्पसंख्यक कौन है?
    •   J&K के बडगाम में एनकाउंटर जारी, 2 आतंकियों के छिपे होने की आशंका
    •   UP: छात्र मनीष खारी की मौत मामले में पाचं नाइजिरियाई छात्रों पर FIR
    •   सीपीईसी की वजह से कश्मीर पर अपना रुख नहीं बदलेगा चीन
    •   कपिल शर्मा की बढ़ी मुश्किलें- गलत बर्ताव के खिलाफ एयर इंडिया उठा सकता है उनपर बड़ा कदम!
    •   देश में इस बार पड़ेगी झुलसा देने वाली गर्मी, रेकॉर्ड तोड़ेगा तापमान
    •   मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड ने SC से कहा- तीन तलाक को अवैध ठहराना कुरान दोबारा लिखने जैसा
    •   बिहार के मधेपुरा से सांसद पप्पू यादव गिरफ्तारी के बाद आज होंगे कोर्ट में पेश, बोले- मुझे फंसाया जा रहा है
    •   चौथे दिन का खेल शुरू, लगातार सातवीं सीरीज जीत से 87 रन दूर है टीम इंडि
    •   ट्रम्प ने मोदी को फोन कर चुनावी जीत पर दी बधाई, दो महीने में तीसरी बार हुई बात
    •   उत्तर प्रदेश: मथुरा में बोर्ड परीक्षा कैंसल।

अजमेर ब्लास्ट केस में टला सजा का ऐलान, 22 मार्च को अाएगा फैसला

img
अजमेर ब्लास्ट केस में टला सजा का ऐलान, 22 मार्च को अाएगा फैसला Ghamansan Editor

अाराेपियाें को संदेश का लाभ देते हुए बरी कर दिया था।

जयपुर। अजमेर ब्लास्ट मामले में शनिवार को एनआईए मामलों की विशेष अदालत दोषियों को सजा सुनाने वाली थी, लेकिन काेर्ट ने अपने फैसले काे 22 मार्च तक के लिए टाल दिया है। करीब 9 साल पहले हुए इस धमाके में कोर्ट ने 8 मार्च को भावेश पटेल, देवेंद्र गुप्ता और सुनील जोशी (मृतक) को दोषी करार दिया था।

साथ ही कोर्ट ने स्वामी असीमानंद समेत 7 अाराेपियाें को संदेश का लाभ देते हुए बरी कर दिया था। 16 मार्च की सुनवाई के बाद कोर्ट ने दोषियों को सजा देने के लिए 18 मार्च की तय की थी।