• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   दिल्ली: तिलक नगर सीट पर आम आदमी पार्टी उम्मीदवार की जीत।
    •   सीलमपुर से बीजेपी की उम्मीदवार शकीला बेगम जीतीं
    •    हार के बाद केजरीवाल के घर बैठक,सिसोदिया और गोपाल राय भी मौजूद,,EVM पर हो रही है चर्चा
    •   अगर बीजेपी जीतती है तो सीएम अरविंद केजरीवाल को अपना इस्तीफा देने के लिए तैयार रहना चाहिए: मनोज तिवारी,
    •   दिल्ली में दो सीटों पर नतीजे आए, खानपुर और मदनगीर में बीजेपी को जीत।
    •   उत्तरी दिल्ली MCD रुझान- भाजपा- 71,कांग्रेस-14,आप-16,अन्य-2
    •   उत्तरी दिल्ली में बीजेपी 72 सीट से आगे, आप 18, कांग्रेस 13
    •   दिल्ली नगरपालिका चुनाव में बीजेपी 165 सीटों पर आगे
    •   दक्षिणी दिल्ली के टैगोर गार्डन से बीजेपी प्रत्याशी आगे।
    •   पूर्वी दिल्ली की 63 सीटों में से 41 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   उत्तरी दिल्ली: 104 सीटों में 70 पर बीजेपी आगे चल रही है।
    •   पूर्वी दिल्ली की झिलमिल सीट से आम आदमी पार्टी की निशा शर्मा आगे।
    •   एमसीडी की 270 सीटों के रुझान सामने आए, तीनों निगमों में बीजेपी को बहुमत।
    •   पूर्वी दिल्ली की सभी सीटों के रुझान सामने आए, बीजेपी को बहुमत। कांग्रेस-आप 12-12 सीटों पर आगे।
    •   2012 के निगम चुनाव में बीजेपी को मिली थी 142 सीटें।
    •   पूर्वी दिल्ली के मुस्तफाबाद से बीजेपी प्रत्याशी सबरा मलिका आगे।
    •   दिल्ली: जामा मस्जिद इलाके में बीजेपी प्रत्याशी आशा आगे चल रही हैं।
    •   दिल्ली: तीनों निगमों की 150 सीटों पर बीजेपी को मिली बढ़त।
    •   MCD: 270 में से 197 सीटों के रुझान: 134 पर बीजेपी, 40 पर कांग्रेस.
    •   दिल्ली: शुरुआती रुझानों में बीजेपी नंबर एक, कांग्रेस 2 और AAP तीसरे नंबर की पार्टी।

Film Review: अपने संघर्ष की कहानी है 'ट्रैप्ड'

img
Film Review: अपने संघर्ष की कहानी है 'ट्रैप्ड' Ghamansan Editor

जो सच्चाई और वास्तविकता के बेहद नजदीक रहती है।

फिल्म : ट्रैप्ड

डायरेक्टर: विक्रमादित्य मोटवानी

स्टार कास्ट: राजकुमार राव, गीतांजली थापा

अवधि: 1 घंटा 42 मिनट

रेटिंग: 3.5 स्टार

मुंबई। फिल्म निर्माता विक्रमादित्य मोटवानी ने अपनी ha फिल्म में एक अलग संदेश दिया है।उनकी हर फिल्मे लीक से हटकर होती है। यह फिल्म दर्शकों की एक ऐसी क्लास की कसौटी पर ही खरा उतरने का दम रखती है जो लीक से हटकर कुछ ऐसा देखने की चाह में थिएटर का रुख करते हैं, जो सच्चाई और वास्तविकता के बेहद नजदीक रहती है।

कहानी: यह कहानी मुंबई के रहने वाले शौर्य (राजकुमार राव) की है। जो अपने ही ऑफिस में काम कर रही लड़की नूरी (गीतांजली थापा) से प्यार करता है और उसके साथ अपनी जिंदगी बिताना चाहता है। अपने लिए वो एक घर की तलाश करता है लेकिन वो नए घर के चक्कर में फंस जाता है। एक  ब्रोकर उसे झांसा देकर घर दे देता है और फिर शुरू होती है उसकी कहानी। एक ऐसा घर जहां ना पानी है और ना ही बिजली, ऐसे में शौर्य कैसे उस इमारत से बाहर निकलने की जुगत लड़ाता है।

कमजोर कड़ी: इस फिल्म की ससे कमजोर कड़ी फिल्म के बहुत बड़े सीन है।जो फिल्म फेस्टिवल्स के हिसाब से तो ठीक हैंपर दर्शको को बोरियत महसूस कराते है। भूख के चलते फ्लैट में कीड़े-मकड़े खाने के सीन आपको हतप्रभ कर देंगे। राव की प्रेमिका बनी गीताजंलि थापा के पास करने के लिए कुछ नहीं था।

देखे या नहीं देखे: यदि आप फिल्म में कुछ नयापन देखना चाहते है तो यह फिल्म आप को जरुर पसंद आएगी। वैसे इस  फिल्म में ड्रामा,थ्रिलर और एक्शन के अलावा कुछ नहीं है।

Posts Carousel