• ब्रेकिंग न्यूज़
    •   नोएडा के सेक्टर-93ए स्थित सुपरटेक एमराल्ड कोर्ट में एसटीएफ की रेड में जब्त कम्युनिकेशन ऐंड रेकॉर्डिंग डिवाइस।
    •   RBI से लाइसेंस प्राप्त कोऑपरेटिव बैंकों को क्रेडिट और डेबिट कार्ड जारी करने की होगी छूट
    •   आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले में एक नाव पलटने से 13 पानी में डूबे, 4 लापता: पुलिस
    •   छत्तसीगढ़: पुलिस ने सुकमा नक्सली हमले में शामिल नक्सलियों की जानकारी देने वाले को इनाम देने की घोषणा की।
    •   नोएडा में यूपीएसटीएफ ने आईपीएल में सट्टा लगाने वाले एक गैंग का पर्दाफाश किया। 7 लोग हिरासत में।
    •   अलगाववादियों से बातचीत पर केंद्र ने महबूबा के प्रस्ताव को ठुकराया
    •   गुरुग्राम: 8 साल के बच्चे से कुकर्म के प्रयास में 72 साल का बुजुर्ग अरेस्ट, केस दर्ज।
    •   हिमाचल प्रदेश: बॉर्डर रोड ऑर्गनाइजेशन ने मनाली से लेह तक जाने वाले सड़क मार्ग से हटाई बर्फ।
    •   पश्चिम बंगाल: बीएसएफ ने 429.55 ग्राम के सोने के चार बिस्किट्स के साथ एक तस्कर को गिरफ्तार किया।
    •   इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में हॉस्टल खाली कराने को लेकर छात्रों का हंगामा। तोड़फोड़ कर बस में लगाई आग,
    •   जम्मू कश्मीर में जवानों ने एक आतंकी को जिंदा पकड़ा, बैंक लूटने आया था आतंकी
    •   चमचे हर जगह पहुंच जाते हैं, लेकिन कंधा देने नहीं: ऋषि कपूर
    •   लखनऊ के पेट्रोल पंपों पर रिमोट से चोरी हो रहा था पेट्रोल, छापे में हुआ खुलासा
    •   अमित शाह की निगाहें अब पश्चिम बंगाल पर...
    •   प्रेस रिव्यू: 'सीएम योगी की स्टाइल में बाल रखने का फरमान'
    •   डोनाल्ड ट्रंप बोले- नॉर्थ कोरिया से गहरा सकता है झगड़ा
    •   कुपवाड़ा के शहीद कैप्टन की मां बोली- मोदी ने नहीं लिया एक्शन तो मैं लूंगी बदला
    •   महिला पत्थरबाजों पर लगाम लगाएंगी 1000 महिला पुलिसकर्मी
    •   सीआरपीएफ ने बनाया प्लान, बस्तर में जल्द शुरू होगी नक्सलियों पर जवाबी कार्रवाई
    •   कल्पित वीरवल ने रचा इतिहास, JEE मेन-2017 में लाए परफेक्ट 100 फीसदी अंक

जानिए पूरा मामला: 21 साल से चल रहा था केस, अब हुई 4 साल की सजा

img
जानिए पूरा मामला: 21 साल से चल रहा था केस, अब हुई 4 साल की सजा Ghamansan Editor

अब वह 10 साल तक cm नही बन पाएंगी.

नई दिल्ली: एआईएडीएमके चीफ वीके शशिकला का राजनीतिक भविष्य आज आने वाले सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर टिका हुआ था जो अब खत्म हो गया है.
 
दरअसल वीके शशिकला आय से अधिक संपत्ति के मामले दोषी पाई गई हैं. मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में उन्हें दोषी पाया. बता दें कि इस मामले में कर्नाटक हाईकोर्ट से बरी होने के बाद राज्य सरकार ने अपील की थी. हालांकि अब शशिकला को 4 साल की सजा भुगतनी पड़ेगी. और अब वह 10 साल तक cm नही बन पाएंगी.

इतना ही नही  इस मामले में कोर्ट ने शशिकला पर 10 करोड़ का जुर्माना भी लगाया है. अब शशिकला को जेल जाने के लिए तुरंत सरेंडर करना होगा। इसी मामले में शशिकला के दो रिश्तेदार इलावरसी और सुधाकरण को भी कोर्ट ने दोषी पाया है और इन्हें भी चार साल की सजा सुनाई गई है.

आपको बता दे कि सुप्रीम कोर्ट उनके खिलाफ 21 साल पुराने 66 करोड़ की आय से अधिक संपत्ति मामले में कर्नाटक हाईकोर्ट ने शशिकला और जयललिता को 2015 में बरी कर दिया था. कर्नाटक सरकार ने इस फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले की रात शशिकला उसी रिसॉर्ट में रुकीं, जहां शशिकला को समर्थन देने वाले विधायकों को ठहराया गया था. शशिकला ने रिसॉर्ट में 120 विधायकों के साथ मुलाकात की, जो करीब एक हफ्ते से यहीं बने हुए थे. शशिकला ने इनसे कहा था कि सब कुछ ठीक दिख रहा है. हम ही आगे सरकार चलाएंगे.

गौरतलब है कि ओ. पन्नीरसेल्वम के बागी रुख अख्तियार करने के बाद शशिकला ने तमिलनाडु के गवर्नर सी विद्यासागर राव से निवेदन किया था कि वह जल्द से जल्द सीएम पद की कमान उनके हाथों में थमा दें. सोमवार को चेन्नई में समर्थकों की भीड़ को संबोधित करते हुए शशिकला ने कहा था, हमने पन्नीरसेल्वम जैसे हजारों देखे हैं. मैं डरती नहीं हूं.

ये है पूरा मामला
1991-1996 के बीच जयललिता के मुख्यमंत्री रहते समय आय से अधिक 66 करोड़ रुपये की संपत्ति अर्जित करने के मामले में  सितंबर 2014 में बेंगलुरु की स्पेशल कोर्ट ने जयललिता, शशिकला और उनके दो रिश्तेदारों को चार साल की सजा और 100 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया था. इस मामले में शशिशकला को उकसाने और साजिश रचने की दोषी करार दिया गया था. लेकिन मई, 2015 में कर्नाटक हाईकोर्ट ने जयललिता और शशिकला समेत सभी को बरी कर दिया था. इसके बाद कर्नाटक सरकार, डीएमके और सुब्रमण्यम स्वामी ने हाईकोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी. सुप्रीम कोर्ट ने चार महीने की सुनवाई के बाद पिछले साल जून में अपना आदेश सुरक्षित रख लिया था. सुप्रीम कोर्ट में कर्नाटक सरकार की दलील थी कि हाईकोर्ट का फैसला गलत है और हाईकोर्ट ने बरी करने के फैसले में मैथमैटिकल एरर किया है. सुप्रीम कोर्ट को हाईकोर्ट के फैसले को पलटना चाहिए ताकि ये संदेश जाए कि जनप्रतिनिधि होकर भ्रष्टाचार करने पर कड़ी सजा मिल सकती है.

Posts Carousel